Kisi Ka Muh Band Karne Ka Wazifa


एक महान दर्शनिक गायबल्स ने कहा था कि यदि किसी झूठ को सौ बार बोला जाए तो वह सच बन जाता है। यही कहावत आज हर परिवार या व्यक्ति के बारे में बोले जोने वाले दुष्प्रचार या झूठी बातों पर भी लागू होती है। ईष्र्या की भावना से कुछ लोग दूसरों के बारे में बुरा ही बोलते रहते हैं।

ऐसा नीचा दिखाने या उनकी तरक्की में रोड़ा अटकाने के लिए करते हैं। उन्हें समझाने के बाद भी वे नहीं समझते हैं। इसका परिवार पर बुरा असर पड़ता है। इस स्थिति में कुछ लोग अवासद से घिर जाते हैं। जबकि कुछ लोगों और परिवारों के बीच घनघोर दुश्मनी हो जाती है।

अगर कोई शख्स गाली और गलत जुबानी से आपकी समाज में इज्जत उछालता है, तो उसे उसके खिलाफ मुंह बंद करने का वजीफा पढ़ने का अमल करना चाहिए। इस वजीफे की आयतों का जिक्र र्कुआन-ए-पाक में किया गया है। इसके बारे मंे जानकार मौलवी से सलाह लेकर निम्न तरह के तरीके अपनाएं।

सबसे पहले उस व्यक्ति का नाम जेहन में बिठाएं, जिनकी जुबान को बंद करनी है।
प्रातः मगरीब की नमाज पढ़ने के बाद उसकी तस्वीर अपने सामने रखें या सादे कागज पर उसका काली स्याही से नाम लिखकर रख लें।
कुल 49 बार बार मुहं बंद का वजीफ पढ़ने से पहले और अंत मंे 11-11 बार दुरूद शरीफ पढ़ें।
उसके बाद सुराह यासीन को 11 बार पढ़कर सामने रखी तस्वीर फूंक मारें। इस अमल को लगातार 21 दिनों तक करें। यदि इसे कोई औरत करती है तो वह माहवारी के दिन इसे नहीं करे।

सास का मुंह बंद करने सा वजीफा

सास का मुंह बंद करने का वजीफा – Saas Ka Muh Band Karne Ka Wazifa, Tarika, Totka, Dua, Amal, अधिकतर घरों के सास की जुबान कतरनी जैसी बहू के खिलाफ चलती ही रहती है। बहू को भला-बुरा कहना उनकी रोजमर्रे की जिंदगी में शामिल रहता है।

दूसरी तरफ बहू सास की बदजुबान और ताने मारने से परेशान रहती है उसकी वजह से दूसरे घरेलू काम बिगड़ जाते हैं। शौहर और बीवी के बीच लड़ाई भी हो जाती है।

सास की कड़वी जुबान को जायज मकसद के लिए किसी मौलवी से सलाह-मश्विरे के बाद उनके बताए गए वजीफे को निम्न तरीके से पढ़ना चाहिए। अमल में लाया जाने वाले वजीफे को इंशा की नमाज के बाद पढ़ें। वजीफा है-

वा तम्मात कालीमतु रब्बीका सिदक्वनव वा अदला, ला मुबाद्दिला लाी कालीमंतिह, वा हुवास समीउल अलीम।

Saas Ka Muh Band Karne Ka Wazifa

इसके पहले और आखर में तीन-तीन बार दुरुद शरीफ अवश्य पढ़ें। अंत मंे ताजा रोटी पर दम करें।
वही रोटी सास की थाली में भोजन के साथ परोस दें। रोटी खाने के बाद ही सास की जुबान में मिठास आ जाएगी। इसे तबतक करें जबतक कि सास पूरी तरह ताने मारना नहीं छोड़े।
ध्यान रहे वजीफे को माहवारी के दिनों में नहीं करें। एक अन्य वजीफे को भी पहले जैसे ही किया जा सकता है। वजीफा है- वा अल्लहु अला मुबीअ दाईकुलम वा कफा बिल्ट लाही वाल्या वां कफा लाही ना सीरा।
हुक्म चलाने वाली सास की जुबान को रोजाना सूरह लहाब की दुआ अस-सलाम अलाइकुम को रोजाना 111 बार 11 दिनों तक पढ़कर भी बंद किया जा सकता है।

दुश्मन का मुंह बंद करने का वजीफा

दुश्मन का मुंह बंद करने का वजीफा – Dushman Ka Muh Band Karne Ka Wazifa, Tarika, Totka, Dua, Amal, कुछ बदजुबानी हरकतें दुश्मनों के जरिए भी की जाती हैं। उनकी वजह से काफी नुकसान उठाना पड़ सकता है। कई बार बना-बनाया काम बिगड़ जाता है।

इसके लिए र्कुआन-ए-पाक की आयतें पढ़कर जुबान बंद करने की दुआ करना चाहिए। मौलवी के अनुसार दुश्मन की ताकत या गंदी जुबान की हरकतों के अनुसार वजीफा का उपाय करना चाहिए। उसका तरीका इस प्रकार है-

Dushman Ka Muh Band Karne Ka Wazifa

शुरूआत मंगलवार और शनिवार को छोड़कर किसी भी दिन किया जाना चाहिए। वजीफा पढ़ने का वक्त रात को दस बजे के बाद हो।
दुश्मन का तस्सबुर करते हुए फर्ज नमाज पढ़ें और अल्लाह ताला से दुश्मन की जहरीली और दुष्प्रभावी जुबानों को बंद करने की दुआ करें। अपनी तरफ से दुश्मन को किसी भी तरह से नुकसान पहुंचाने की नीयत नहीं रखें।
हर नमाज के बाद 41 मर्तबा दिया गया आयत पढ़ें। आयत है- सुम्मुन बुकमुम उम्युन फहुम ला यार जी युन। इसके पहले और बाद में दुरुद शरीफ भी सात-सात बार अवश्य पढ़ें। वजीफा करने के दौरान दुश्मन की तस्वीर जेहन मंे ध्यान करें। संभव हो तो हाथ में उसकी तस्वीर भी रख लें।
मुंह में काली मिर्च रखकर 117 बार सिर्फ सुरहें पढ़ें। उस वक्त विस्मिल्लाह और दुरूद नहीं पढ़ना है।
अंत में तस्वीर पर दम करते हुए उसके निवास स्थान की दिशा में फूंक मारें। तस्वीर को काली या लाल स्याही से पोत दें। इसे लगातार सात दिनों तक करें। उसके बाद भी असर नहीं दिखे तो वजीफा 21 या फिर 41 दिनों तक निश्चित समय पर जारी रखें।

शौहर का मुंह बंद करने का वजीफा

शौहर का मुंह बंद करने का वजीफा – Shohar Ka Muh Band Karne Ka Wazifa, Tarika, Totka, Dua, Amal, हर विवाहिता चाहती है कि उसका शौहर उसके साथ प्यार से पेश आए। अच्छी और प्यार की जुबान में बातें करे। किंतु छोटी-छोटी बातों को लेकर शौहर बीवी की तौहीन करता रहता है।

यहां तक कि धमकियांे के साथ उसका मानसिक शोषण भी किया जाता है। उसके खिलाफ उसकी खुली जुबान बंद ही नहीं होती है। ऐसे शौहर की बेवजह खुलने वाली मुंह को बंद करने के लिए घरेलू टोटके के साथ वजीफा लगातार सात या 11 दिनों तक पढ़ना चाहिए।

Shohar Ka Muh Band Karne Ka Wazifa

वजीफा किसी भी दिन शुरू किया जा सकता है, लेकिन समय रात को 11 और 12 बजे के बीच का होना चाहिए। अपने साथ में एक ग्लास पानी और एक पुड़िया चीनी की रख लें।
र्कुआन की आयातों में बताए गए उसी आयात को अच्छी नियत के साथ पढ़ना चाहिए जिसका प्रयोग सास की मंुह बंद करने के लिए किया जाता है।
आयत को 121 बार पढ़ने के बाद पानी के ग्लास और चीनी की पुड़िया पर दम करें।
पानी का आधा हिस्सा घर के कोने में छिड़क दें और बाकी शौहर के पीने के पानी में मिला दें। कुछ घूंट खुद भी पी लें। इसी तरह से दम किए गए चीनी से ही शौहर के साथ-साथ खुद के लिए सुबह की चाय बनाएं।
अगर शौहर की तरफ से परेशानी बहुत अधिक है तो प्रतिदिन 1000 बार सुरह लुहाब का वजीफा पढ़कर पानी पर फूंक मारें और खुद पी लें। ऐसा चालीस दिनों तक करने से शौहर की जुबान में मिठास घुल जाएगी और वह नापतौल कर जो भी बातें करेगा उसमें ताने कम प्यार-मनुहार की झलक ज्यादा दिखेगी।

Call and Whatsapp Now
+91 9602162351

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s