खोया प्यार को हासिल करने की दुआ


खोया प्यार को हासिल करने की दुआ – Khoya Pyar Ko Hasil Karne Ki Dua, Tarika, Wazifa, Upay, Amal, प्यार खुदा की दी हुए सबसे खूबसूरत नेमत है, यदि आप का प्यार बिछुड़ गया है तो आज हम आपके लिए लाये है बिछड़े हुए प्यार से वापिस मिलने की दुआ और खोया हुआ प्यार वापस पाने की दुआ. इस दुआ को खोई हुई मोहबत को ढूंढने की दुआ भी कहते है

Khoya Pyar Ko Hasil Karne Ki Dua

ऐसी मान्यता है कि प्यार के लिए लड़का और लड़की की जोड़ियां ईश्वर, अल्लाह या गाॅड ही तय करते हैं। उनमें बेशुमार मोहब्बत के जज्वात भर देते हैं। फिर भी उनके बीच बेइंतहा मोहब्बत खुशनसीबों को ही मिल पाता है।

कई बार प्यार सामाजिक-पारिवारिक बंदिशों के चलते मिलकर भी बिछुड़ जाता है, तो कुछ प्यार आकस्मिक हादसों, गलतफहमियों या नादानियांे की वजह से खो जाते हैं।

खोया प्यार को हासिल करने की दुआ – Khoya Pyar Ko Hasil Karne Ki Dua, Tarika, Wazifa, Upay, Amal

उन्हें दोबारा पाने के लिए काफी कुछ करना पड़ता है। अब अगर प्यार किसी वजह से खो जाए, तो उसे र्कुआन की आयातें के जरिए अल्लाह की इबादत कर फिर से हासिल किया जा सकता है।

  • खोया प्यार जिस स्थिति में हो उसे दुआ की बदौलत आसानी से तलाशी और हासिल की जा सकती है। उसके लिए ताकतवर वजीफा ‘‘ वा रसाल अलैहिम तैरान अबाबिलला’’ को नमाज अदा करने के नियमों के साथ लगातार 45 दिनों तक पढ़ना चाहिए।इस दुआ को प्रेमी या प्रेमिका दोनों में से कोई भी सुबह फजर की नमाज के बाद कर सकते हैं। सुबह नौ बजे से पहले घर के किसी सुकून वाले जगह में पाक-साफ चादर बिछाकर इत्मीनान से वुजू बना लें।
  • जेहन में अपने महबूब या महबूबा का तस्सबुर करें। फिर दरूद-ए-शरीफ सात बार पढ़ें।
  • उसके बाद ऊपर बताए गए आयत को 40 मरतबा पढ़ें। अंत में दरूद शरीफ फिर से सात बर पढ़ें।
  • अपने दोनों हाथ ऊपर उठाकर अल्लाह से दुआ करें कि अपकी मोहब्बत फिर से मिल जाए। उस दौरान अपने दिल और दिमाग को अपने माशूक या माशुका की तरफ बनाए रखें।

बिछुड़े हुए प्यार से वापिस मिलने की दुआ

बिछुड़े हुए प्यार से वापिस मिलने की दुआ – Bichde Hue Pyar Se Wapas Milne Ki Dua, Tarika, Wazifa, Upay, Amal, प्यार के बिछुड़ने के जो भी वजह रहे हों, उसे अल्लाह से दुआओं से वापिस पाया जा सकता है। इसके लिए दो ताकतवर वजीफे बताए गए हैं। वे हैं-

‘‘आलम तारा कैफा रब्बुका बिअसहाबि अल-फील’’ और ‘‘अल्लाहुम्मा जानी महबूबिन फि मिलती बिहक्की या बुद्दुहो बुद्दुहो।’

इन्हंे मौलवी द्वारा बताए गए तरीकों से लगातार 40 दिनों तक पढ़ने पर हताश और निराश प्रेमियों को काफी मदद मिल सकती है। इससे अगर महबूबा के दिल में महबूब के मोहब्बत के प्रति किसी भी तरह की गलतफहमी को खत्म किया जा सकता है,

Bichde Hue Pyar Se Wapas Milne Ki Dua

  • तो महबूब के दिल में प्यार की अलख फिर से जलाई जा सकती है। इन दुआओं का असर सीधे अल्लाह ताल के दरबार में पहुंचती है और नए मोहब्बत भरे रिश्ते कायम करने की मुश्किल भरी तमाम राहें आसान हो जाती हैं।
  • बताए गए नियमों को अपनाते हुए किसी भी दिन इसकी शुरूआत की जा सकती है, किंतु समय सबेर नौ बजे तक का ही होना चाहिए।
  • वजीफे को 40 बार पढ़ने से पहले और अंत में सात-सात मरतबा दुरूद शरीफ पढ़ें।
  • अंत में अल्लाह से पूरी शिद्दत के साथ दुआ मांगे और वापस मिली मोहब्बत की हर कीमत पर हिफाजत करने की सौगंध लें।

खोया हुआ प्यार वापस पाने की दुआ

खोया हुआ प्यार वापस पाने की दुआ – Khoya Hua Pyar Wapas Pane Ki Dua, Tarika, Wazifa, Upay, Amal, कई बार व्यस्त जीवन की आपाधापी में शौहर और बीवी के बीच का प्यार गुम हो जाता है। उनके दिल में एक-दूसरे के प्रति शिकायतें और तानें इस कदर भर जाते हैं कि वे खुद को प्यार की सुखद अनुभूतियों से बेहद दूर महसूस करते हैं।

हालांकि उनकी दिली तमन्ना होती है कि उन्हें खोया हुआ प्यार फिर से वापस मिल जाए। पास-पास रहकर भी प्यार की यह गुमशुदगी उनको बर्दाश्त नहीं होती। उनका दिल भीतर-ही-भीतर सुलगता-जलता रहता है। इस समस्या का निदान अल्लाह की इबादत में दिया गया है।

र्कुआन-ए-पाक में वर्णित आयत ‘‘अलजावाज मिनि मइ वहिद उहिबा’’ से दुआ करनी चाहिए। इसके अतिरिक्त एक और ताकतवर दुआ है- नाद-ऐ-अली अय्याम मजहरील, जेजेबी ताजिद हु अवनलाक फिनवा, इबि कुल्लू हमीनव्वा ग़मीं स्यांजलि, बी रहमतिका या अल्लाह वबी नबूवतीक। या मुहम्मद वबी विल अयातिक या अलिययु अलिययु अल। इस दुआ की अमल के साथ एक टोटका भी किया जाना चाहिए।

Khoya Hua Pyar Wapas Pane Ki Dua

  • शौहर या बीवी एक-दूसरे को बताए बगैर किसी भी दिन फजर की नमाज के बाद इस अमल को कर सकते हैं।
  • सुकून वाली जगह पर बुजू बनाने के साथ-साथ एक ग्लास पानी में दो चम्मच चीनी डालकर रख लें। फिर दुरूद शरीफ के 7 बार पढ़ें।
  • उसके बाद 45 मरतबा आयत को पढ़ें। फिर सुराह युसुफ की आयत30 के छोट से हिस्से को बिस्मिल्लाह शरीफ पढ़ने के बाद पढ़ें। अंत में फिर से सात बार दुरूद शरीफ पढ़ने के बाद ग्लास में रखे पानी पर दम करें। इस दौरान अपने जीवनसाथी का तस्सबुर अवश्य करें।
  • ग्लास का आधा मीठा पानी जीवनसाथी को पिलाने के बाद बाकी बचा पानी खुद पी लें। इसकी कोई निश्चित मियाद नहीं दी गई है, लेकिन दुआ को लगातार 45 दिनो तक अवश्य करना चाहिए। चाहें तो दोनों आयतों को पढ़ सकते हैं।
  • इंशा अल्लाह की मेहरबानी से दो हफ्ते से असर दिखना शुरू हो जाएगा और जीवनसाथी के व्यवहार से आपसी मोहब्बत महसूस कर पाएंगे।

खोई हुई मोहब्बत को ढूंढने की दुआ

खोई हुई मोहब्बत को ढूंढने की दुआ – Khoi Hui Mohabbat Ko Dhundne Ki Dua, Tarika, Wazifa, Upay, Amal, कुदरती देन प्यार-मोहब्बत की भावना कब लुप्त हो जाए, या कहें कोई पसंद कब नापसंदगी और इच्छा अनिच्छा मंे बदल जाए, सब अल्लाह की मर्जी पर निर्भर करता है।

दिल में मोहब्बत की आत्मीय भावना एक झटके के साथ दिल और दिमाग के कोने में ही खो जाती है। ऐसे में उसे ढूंढने के लिए मोहब्बत डालने की दुआ का अमल करना एक कारगर उपाय हो सकता है।

खोई हुई मोहब्बत का ढ़ूंढने का अर्थ महबूबा या महबूब के दिल में माकूल जगह ढूंढने से है। इसके लिए निम्नलिखित उपाए दिए गए हैं, जिन्हें र्कुआन के एक ताकतवार आयत को पढ़कर पूरे किए जा सकते हैं। आयत है-

Khoi Hui Mohabbat Ko Dhundne Ki Dua

वा अल लाफा बैना कुलु बिहिम लाउ इन्फक्ता मा फिल अरधी, जा मिआम मा अल लाफ्ता कुलु बिहिम वाला किन्नल, लाहा लफा बिना हम वा इन्नाहु अजीजुं हकीम।

जुम्मे की नमाज के बाद शुरू कर इस आयत को कम से कम 11 दिन या 21 दिनों तक पढ़कर दुआ करनी चाहिए। इस दौरान महबूब या महबूबा की तस्सबुर करें।
इसके पहले और अंत में दुरूद शरीफ 11-11 बार अवश्य पढ़ें। इसके बीच में ही 300 मरतबा यावदूदू या रउफू या रहीमनमो भी पढ़ें।
अंत में रूआंसी आवाज में अल्लाह से मोहब्बत ढ़ूंढने के लिए दुआ करें।
प्रेमिका इसे महावारी खत्म होने के बाद करें।

If you need any type of help and Guidance talks to us without any hesitation. In Sha Allah we will solve your problem.

Enquiry Form

Featured

किसी को भी हाजिर करने का अमल


किसी को भी हाजिर करने का अमल – Kisi Ko Bhi Hazir Karne Ka Amal, Dua, Wazifa, इस अमल के द्वारा आप ताकतवर शक्तियों को बुला कर उनसे अपनी मर्ज़ी का काम करवा सकते हो, आज हम आपको शैतान की बेटी को हाजिर करने का अमल बता रहे है. इसके अलावा हम आपको जिन्नात को हाजिर करने का अमल और परियों को हाजिर करने का अमल भी बता रहे है.

Kisi Ko Bhi Hazir Karne Ka Amal

हर व्यक्ति के मन में एक अद्भुत चमत्कारी शक्ति होती है। उसमें छिपी गजब की क्षमता कीे बदौलत किसी भी अनजान शक्ति को अपने वश में किया जा सकता है। किंतु इसके लिए कुछ वैसी ताकतों को बुलाया जाना जरूरी होता है,

जो इंसानी दुनिया से बिल्कुल ही अलग की अलौकिक दुनिया में एक छाया की तरह होते हैं। उन्हें एक ताकतवर परछाई कहें या कहें उनके भीतर आपार ऊर्जा का विपुल भंडार होता है। वह अदृश्य होकर भी हर संभव शक्तिशाली काम कर देता है।

किसी को भी हाजिर करने का अमल – Kisi Ko Bhi Hazir Karne Ka Amal, Dua, Wazifa

वे मुस्लिम समाज में एक छाया के तौर पर शैतान की बेटी, जिन्नात या परियों के नाम से जानी जाती हैं। यानी कि उसी छाया की बदौलत ही मन की शक्ति हासिल की जा सकती है, जो बेहद कठोर साधना और अल्लाह के अमल से मिलता है। उ

से फारसी शब्द ‘हमजाद के अमल’ के नाम से भी जाना जाता है। उनका सकारात्मक और नकारात्मक दोनों तरह से इस्तेमाल किया जा सकता है। जैसे किसी व्यक्ति का वशीकरण करने, शत्रु के प्रभाव को खत्म करने, दूसरों के मन की बात को जानने या फिर किसी को डराने-धमकाने के लिए उपयोगी हो सकता है।

ऐसी जिस अदृश्य शक्ति का इस्तेमाल इंसानी भलाई के लिए किया जाता है वैसी हमजाद को नुारानि कहा गया है, जबकि नकारात्मक शक्तियों की जिम्मेदार बुराई या शैतानी हमजाद को सिफलि कहा जाता है।

इनसे भले ही शैतानी काम लिया जाता हो, लेकिन इनकी मदद से ही दुश्मनों के बुरे-से-बुरे काम को नेस्तनाबुद किया जा सकता है। इन्हें हाजिर करने के लिए र्कुआन की आयतों को मौलवी द्वारा बताए गए नियमों के मुताबिक कायदे से पढ़ने का अमल किया जाता है।

शैतान की बेटी को हाजिर करने का अमल

शैतान की बेटी को हाजिर करने का अमल – Shaitan Ki Beti Ko Hazir Karne Ka Amal, Dua, Wazifa, अलौकिक ताकतवर शक्तियों मंे शैतान की बेटी को हाजिर करने के अमल को सात दिनों तक किया जाता है। ऐसा कर उसकी शक्ति को साध लिया जाता है।

शौतान की बेटी एक तरह से जिन्न ही है, जिनकी नकारात्मक क्षमता से बुराई को खत्म किया जा सकता है। वैसे किसी को भी हाजिर करने के अमल की दुआ के लिए पढ़ा जाने वाला आयत है-

लाइलाहा इल्ला अनता सुबहानका इन्नि कुंतु मिन्ज जावाल्लिन।

Shaitan Ki Beti Ko Hazir Karne Ka Amal

  • मौलवी की सलाह के अनुसार इसे बेहद सुकून वाले जगह में 777 बार सात दिनों तक पढ़ा जाना चाहिए। हर दिन एक निश्चित समय में प्रातः नौ बजे तक या फिर रात्री मंे नौ बजे के बाद पढ़ना चाहिए।
  • अपने शरीर पर 11 बार आयतल कुर्सी को पढ़कर फूंक लेना भी बेहतर होगा।
  • इसके पहले और आखिर में 11-11 बार दुरूद इब्राहिम को पढ़ना जरूरी है।
  • यह सब हर दिन आंखें बंदकर किया जाना चाहिए। इसकी मियाद पूरी होने के दिन आंखों के सामने एक स्पष्ट इंसानी छाया उभरेगी, जो एक खूबसूरत युवती की होगी। वह हर आदेश का पालन करने के लिए बदले की भावना लिए हुए तत्पर रहेगी।
  • उभरती हुई तस्वीर के साथ सवाल-जवाब का सिलसिला शुरू होेने पर अपना मनोवांछित प्रयोग कर सकते हैं।
  • उस तस्वीर को अपने समाने जलती हुई मोमबत्ती की लौ या शीश में भी देखी जा सकती है।

जिन्नात को हाजिर करने का अमल

जिन्नात को हाजिर करने का अमल – Jinnat Ko Hazir Karne Ka Amal, Dua, Wazifa, अच्छे काम करने, किसी मुसीबत से छुटकारा पाने, या फिर किसी को वशीभूत करने की महत्वाकांक्षा पूरी करने वाले व्यक्ति को पहले जिन्नात हाजिर करने का अमल करना जरूरी होता है।

इसके लिए र्कुआन में दिए गए आयत

‘‘लाकुन्ना हुआल्लाहु रब्ब नला उसरीकु बिरब्बि अहद’’

का 40 दिनों के भीतर अमल पूरा कर लेना चाहिए। इसकी तरकीब इस तरह बताई गई है-

Jinnat Ko Hazir Karne Ka Amal

  • अमल करने से एक दिन पहले आयत पढ़ने संबंधी मन के भीतरी भय को दूर कर हिम्मत जुटानी है। इस दौरान आयत को कंठस्थ कर लेना चाहिए।
  • इस अमल को करने में कुल छह घंटे का समय लग सकता है, इसलिए जुमेरात की रात को 11 बजे के बाद घर के एकांत कमरे का चयन करें और नया सफेद पोशाक पहनें।
  • अपने साथ सुगंधित फूल और इत्र की शीशी भी रखें। दुर्गंध वाली किसी भी चीज को हटा दें और वजू करने के बाद सफेद चादर बिछाकर बैठ जाएं।
  • अमल की शुरूआत करने से पहले दो रकत नमाज अदा करें। प्रत्येक रकत में सुराह फतेहा या सुरात नसह को दस बार पढ़ें।
  • फिर चार आयतालकुर्सी को एक बार पढ़ें और एक कांच के हरे रंग की चूड़ी पर तीन बार दम करें। उसी चूड़ी से अपने चारो ओर एक दायरे बना लें।
  • ऊपर बताए गए आयत को सवा लाख बार पढ़ना है। इसे हर दिन जितना अधिक पढ़ा जाएगा, वह उतना ही जल्द निर्धारित मियाद में अमल पूर हो पाएगा।
  • अमल के खत्म हो जाने के बाद नजरों के सामने जिन्न एक साक्षात स्त्री की छाया के रूप में दिखेगी। अदब के साथ दुआ करगी। उसके ऐसा करते ही आप उससे वादा लें कि आपके द्वारा बुलाए जाने वाह आपकी खिदमत में हाजिर हो जाए। यह कहते हुए उसके बाद इत्र की शीशी से गिराकर फैला दें।

परियों को हाजिर करने का अमल

परियों को हाजिर करने का अमल – Pariyon Ko Hazir Karne Ka Amal, Dua, Wazifa, बच्चों की किस्से-कहानियों में जादूई चमत्कार करने वाली परी को देखने और दोस्ती करने की तमन्ना हर किसी को होती है। क्या आप जानते हैं कि उसे इस्लामी इबादत और अमल के जरिए नेक-नियत वाली परियों को हाजिर किया जा सकता है।

उससे बातें की जा सकती है और उसकी मदद से अपनी समस्याओं को समाधान पाया जा सकता है। इस अमल को कायदे से करने की तरकीब इस प्रकार है-

Pariyon Ko Hazir Karne Ka Amal

  • इस अमल के लिए नौचंदी की इतवार या जुमेरात का या फिर बुधवार का दिन निर्धारित करें। पाक-साफ होकर सुबह नौ बजे के करीब सफेद पोशाक धारण करें।
  • बेहतरीन खुशबू लगाएं और एकांत जगह पर सफेद चादर बिछाएं। अपने साथ दो गेहूं के आटे की रोटी और दो बेसन के लड्डूओं को अपने सामने रखें।
  • संदल की अगरबत्ती जलाएं। शुरूआत दो रकत की नमाज से करते हुए 11 बार दुरूद शरीफ पढ़ें। उसके बाद 1000 मरतबा सुराह फतेह पढ़ें। फिर दुरूद शरीफ 11 बार पढ़कर अंत में खाने की वस्तुओं पर फूंक मारें।
  • आंखें बंद कर परियों का तस्सबुर करें। चंद लम्हे में आप पाएंगे कि वे आपकी आखों के सामने आ चुकी हैं। उनकी सलामती की बात करते हुए बुलाने पर आने का वादा लें। उन्हें अपना हाल-ए-दिल सुनाते हुए महत्वाकांक्षाओं के बारे में भी बताएं।
  • रोटियों को टुकड़ कर लड्डुएं के साथ बच्चों के बीच बांट दें।

Yadi aap kisi takatwar shakti se apna kuch kaam nikalwana chahate hai to uske liye Kisi Ko Bhi Hazir Karne Ka Amal, Dua, Wazifa hum aaj aapko batayege.

Isse aap Shaitan Ki Beti Ko Hazir Karne Ka Amal, Dua, Wazifa or Jinnat Ko Hazir Karne Ka Amal, Dua, Wazifa bhi kah sakte hai.

Is wazifa ke dwara jis taktawar shakti ko aap bulayege wo aapke kadmo mai aayegi or aap usse manchaha kaam nikalwa sakte hai.

iske alawa hum aaj aapko Pariyon Ko Hazir Karne Ka Amal, Dua, Wazifa bhi bata rahe hai.

If you need any type of help and Guidance talks to us without any hesitation. In Sha Allah we will solve your problem.

Enquiry Form

अच्छे रिश्ते के लिए वजीफा


अच्छे रिश्ते के लिए वजीफा – Acche Rishte Ke Liye Wazifa, Bataye, Ubqari, Upay, Taweez, Dua, Amal, Hindi, Urdu, कहते है रिश्ते तो जन्नत मे बनते है, फिर भी हर कोई अपने लिए अच्छा रिश्ता चाहता है, इसके लाये है मनपसंद रिश्ते के लिए वजीफा और रिश्ता पक्का होने की दुआ. यदि आप के पास रिश्ते ही नहीं आ रहे है तो इस्तेमाल करे हमारा जल्दी रिश्ते आने के लिए वजीफा।

Acche Rishte Ke Liye Wazifa

अल्लाह-ताला के साथ आकाश की असीमित ताकत है, अल्लाह से की गयी याचिकाएं वास्तव में युवा पुरुषों और युवा महिलाओं के लिए उचित हैं जो शादी में परेशानियों का सामना कर रहे हैं।

कुछ लोगों को समय के साथ इस्लाम के निर्देशों के अनुसार समय पर पाबंदी लगने से पहले ही निकाह का सौभाग्य प्राप्त होता है, हालांकि कुछ युवा पुरुष और युवा महिलाएं ऐसे भी होते हैं, जिन्हें शादी का परिणाम उचित समय पर नहीं मिलता है, तो वे दबाव में आ जाते हैं।

अच्छे रिश्ते के लिए वजीफा – Acche Rishte Ke Liye Wazifa, Bataye, Ubqari, Upay, Taweez, Dua, Amal, Hindi, Urdu

ऐसा भी हो सकता हैं कि कुछ को अपनी मनपसंद जीवनसाथी ना मिल पा रहा हों, इसलिए उनके निकाह में देरी हो रहीं हों, या फिर कुछ अडचनों की वजह से अच्छे रिश्ते नहीं आ रहे हों| आज हम इस लेख में उन वजीफों की चर्चा करेंगे जो युवा लड़के और लड़कियों को अच्छे रिश्ते प्राप्त करने में मदद करते हैं|

अच्छे रिश्ते के लिए वजीफा

  • सबसे पहले सूरह यासीन को याद कर लें|सूरह यासीन को उनके बेशुमार बरकत के प्रकाश में “कुरान का दिल” माना जाता है। कई चुनौतियों का सामना करने के साथ-साथ, सूरह यासीन को दिन-प्रतिदिन में होने वाले कार्य के लिए उत्तरदायित्व माना जाता हैं|
  • यह शादी के साथ आने वाले दिक्कत को पहचाने जाने वाले मुद्दों की काफी संख्या का ध्यान रखता है और इसके पढ़ने वाले का यह सारी मुराद पूरी करता हैं|
  • दसरा वजीफ़ा हैं, सुरत दुआ और सूरह क़सास की आयत संख्या 24 को पढ़ना|उलमा के अनुसार , अगर कोई लड़का दिन में 100 बार इस आयत को पढ़ता है, तो इंशा अल्लाह जल्द ही उसके लिए एक बेहतर लड़की का रिश्ता आएगा|
  • अगर लड़कियों को शादी के लिए एक अच्छे रिश्ते की तलाश है, तो उन्हें फज्र की नमाज के बाद 11 बार सूरह दुहा सुनाना चाहिए। ऐसा करने से उन्हें अपने पसंद का रिश्ता मिलता हैं|

जल्दी रिश्ते आने के लिए वजीफा

जल्दी रिश्ते आने के लिए वजीफा – Jaldi Rishta Aane Ke Liye Wazifa, Bataye, Ubqari, Upay, Taweez, Dua, Amal, Hindi, Urdu, अभी तक अपनी शादी की घंटी नहीं सुनी है? क्या आप अभी भी अपने सपनों के लड़के या लड़की की प्रतीक्षा कर रहे हैं जो एक परी कथा की तरह आपके जीवन को बदल देगी|

यदि ऐसा हैं तो आपको इस्लामिक अमल को आजमाने का उपाय करनी चाहिए| यदि आप चाहते हैं कि आपका निकाह सही समय पर हो जाए , तो जल्दी निकाह के सपने को पूरा करना के लिए नीचे दिये हुए उपाय को आजमाए|

जल्दी रिश्ते आने के लिए वजीफा का प्रयोग विधि-

जल्द निकाह की इच्छा रखने वाली लड़कियों को उत्तर की ओर मुख करके ऐसी जगह पर इस वजीफा को पढ़नी चाहिए जहाँ पर कोई शोर न हो। इस वजीफ़ा को रोजाना 100 मर्तबा तक पढ़ना है जब तक कि उद्देश्य प्राप्त न हो जाए।

Jaldi Rishta Aane Ke Liye Wazifa

  • “मेरे खुदा तू बड़ा रहीम हैं,इस जहां के उस ओर जहां दोज़ख मेरा इंतजार कर रहा हैं,मुझे इससे बचा,इस जहां में मेरा मददगार बन| अमीन|”
  • जल्द निकाह के लिए लड़के भी इसी वजीफ़ा को तब तक पढ़ सकते हैं, जब तक आप लाभान्वित न हों| लड़कों को पूर्व दिशा की ओर मुख किए हुए शांत वातावरण में प्रतिदिन 100 बार वजीफ़ा का पाठ करना चाहिए।
  • इसके अलावा अपने माता-पिता और बड़ों का सम्मान करें। लड़कों को महिलाओं के साथ कई संबंधों को रखने से बचना चाहिए।
  • इसके अलावा लड़के तथा लड़की दोनों ही को, प्रतिदिन पाँच वक्त का नमाज पढ़नी चाहिए और रात को सोते समय अल्लाह-ताला से बेहतरी की दुआ करनी चाहिए|
  • यदि आप इन सभी उपायों को पाबंदी के साथ करते हैं, तो इंशाअल्लाह निश्चय ही आपका निकाह जल्द-से जल्द हो जाएगा|

मनपसंद रिश्ते के लिए वजीफा

मनपसंद रिश्ते के लिए वजीफा – Manpasand Rishte Ke Liye Wazifa, Durood Sharif, Bataye, Ubqari, Upay, Taweez, Dua, Amal, Hindi, Urdu, आज कल लोग अपनी पसंद के लड़के अथवा लड़की से निकाह को अधिक तरजीह देते हैं|यदि आप भी किसी को पसंद करते हैं, और उसी से निकाह करना चाहते हैं, तो आपको नीचे वर्णित वजीफा को आजमानी चाहिए|

Manpasand Rishte Ke Liye Wazifa

  • अपने पसंद की निकाह की चाहत को पूरा करने के लिए आप अल्लाह-ताला से दुआ करे|”अल्लाह” का नामइस तरह पढ़ें
  • 11 बार: दुरूद शरीफ़
  • 313 बार: अल्लाह
  • 11 बार: दुरूद शरीफ़ (अंत में)।
  • 41 दिनों के लिए, हर प्रार्थना के बाद बिना किसी अंतराल के इन वजीफों को नियमित दुहराने से अल्लाह-ताला की दुआ से आप अपनी पसंद के लड़के या लड़की से ही शादी करेंगे|
  • ऐसे मौके पर जब आपको निकाह करने की आवश्यकता है, क्यूंकी आपकी पसंद की लड़की अब और आपका इंतजार नहीं कर सकती हैं ,फिर भी आपका परिवार इसके खिलाफ है, उस समय आप नीचे दिए गए वजीफ़ा का उपयोग कर सकते हैं।
  • किसी भी प्रार्थना के बाद दैनिक इन पाठ को पढ़ें;
  • 19 बार: बिस्मिल्लाह करे|
  • 1100 बार: सूरह तौबा की आयत संख्या 129 को पढ़े|
  • दिन में कम से कम 3 बार दारुदे-शरीफ को अवश्य पढ़े|

यदि आप चाहते हैं कि आपकी पसंद की निकाह ही हो, तो आप ऊपर बताए गए वजीफा को जुम्मे के दिन से शुरू करे|
इसके अलावा लड़के व लड़की के अलावा उनके वालिद भी इन दुआओं को पढ़ सकते हैं, ताकि उनके बच्चों की शादी जल्द हों जाए|

रिश्ता पक्का होने की दुआ

रिश्ता पक्का होने की दुआ – Rishta Pakka Hone Ki Dua, Wazifa, Durood Sharif, Bataye, Ubqari, Upay, Taweez, Amal, Hindi, Urdu, कई बार ऐसा होता है कि अच्छे रिश्ते हमारे दरवाजे तक तो आते हैं लेकिन यह रिश्ता तय नहीं हो पाता है| यह अच्छे रिश्ते हमारे दरवाजे से ही लौट जाते हैं| आखिर ऐसा क्यों होता है| इसके पीछे बहुत से कारण हो सकते हैं|

यदि आप भी ऐसा चाहते हैं कि कोई अच्छा रिश्ता एक ही बार में पक्का हो जाए तो आप इस्लाम में बताए हुए कुछ दुआओं को आजमा सकते हैं| अल्लाह-ताला ने चाहा तो अच्छा रिश्ता इस बार आपके द्वार से वापस नहीं जाएगा|

Rishta Pakka Hone Ki Dua

  • यदि आप अपना रिश्ता पक्का करना चाहते हैं तो सुबह जल्दी उठ कर नहा धोकर किसी साफ-सुथरे जगह पर बैठ जाए अब अपने दोनों हाथ ऊपर उठाकर अल्लाह ताला से दुआ मांगे- “ अल्लाह वसितुल्लाह मुला वकारे अहमद”, ओ मेरे खुदा तू सबकी सुनने वाला है मेरी भी सुन इस दुनिया में मुझे मेरे हाथ थामने वाले मुझसे मिला मुझे अपनी पनाह में ले आमीन|”
  • इस दुआ को कम से कम 22 मर्तबा दुहराये| ध्यान रखें दुआ पढ़ते समय ना ही इसे बीच में छोड़ना है ना ही कुछ बोलना है|
  • दुआ समाप्त करके उस जगह से उठे और अपनी पेशानी पर हाथ रखते हुए अल्लाह ताला से अर्ज करें कि वह हमेशा आपको अपनी पनाह में रखें और आपकी मुराद जल्द से जल्द पूरी करें|
  • अल्लाह ताला जरूर आपकी दुआ को कबूल करेंगे और आपका रिश्ता आपके पसंद के हिसाब से तय हो जाएगा
  • लेख में बताए हुए सभी वजीफे व दुआएं विशेषज्ञ द्वारा आजमाएं हुए हैं| इन्हें पूरी निष्ठा के साथ आप भी आजमाएं और अपना मनवांछित फल प्राप्त करें| अल्लाह आपकी सारी मुरादें पूरी करेगा| आमीन|

Har pariwar or ladka ek aacha rista chahate hai, waise to riste jannat mai ban ke khuda bejta hai, fir bhi aaj hum aapko laye hai Acche Rishte Ke Liye Wazifa, Bataye, Ubqari, Upay, Taweez, Dua, Amal, Hindi, Urdu.

Jaldi Rishta Aane Ke Liye hum laye hai Jaldi Rishta Aane Ke Liye Wazifa, Bataye, Ubqari, Upay, Taweez, Dua, Amal, Hindi, Urdu.

Manpasand Rishte Ke Liye hai Manpasand Rishte Ke Liye Wazifa, Durood Sharif, Bataye, Ubqari, Upay, Taweez, Dua, Amal, Hindi, Urdu.

Rishta Pakka Hone ke liye istemaal kare hamari Rishta Pakka Hone Ki Dua, Wazifa, Durood Sharif, Bataye, Ubqari, Upay, Taweez, Amal, Hindi, Urdu.

If you need any type of help and Guidance talks to us without any hesitation. In Sha Allah we will solve your problem.

Enquiry Form

दूसरी शादी के लिए वजीफा


दूसरी शादी के लिए वजीफा – Dusri Shadi Ke Liye Wazifa, Dua, Amal, हमारे मे अक्सर देखा गया है की तलाक़ होने के बाद अच्छे रिश्ते कम ही मिलते है इसलिए आज हम आपको तलाक के बाद दूसरी शादी होने का वजीफा और दूसरी शादी जल्दी करने की दुआ बता रहे है. हम आज आपको शौहर को दूसरी शादी से रोकने का वजीफा भी बता रहे है

Dusri Shadi Ke Liye Wazifa

बाज़ औकात लड़का या लड़की दोनों में से किसी के भी रिश्ते खराब हो गए हैं।और उनका तलाक हो गया आपस में।और दोनों दूसरी शादी की ख्वाइश मंद है तो उन लोगों के लिए यह बहुत ही पावरफुल वजीफा है।यह वजीफा हंड्रेड परसेंट पावरफुल है।

आपको वजीफे के लिए आपको,वजीफे की चंद शर्तों को मानना होगा।जैसा कि आपको पांच वक्त की नमाज वजीफे के साथ पाबंदियों के साथ पढ़ना है।फर्को में ना पड़े और लोगो से जब भी मिले।हम कलाम के साथ मिले सलाम को कायम रखें यह नहीं देखिए कि कौन छोटा है कौन बड़ा सलाम में अपना पहला कदम बढ़ाए।

दूसरी शादी के लिए वजीफा – Dusri Shadi Ke Liye Wazifa, Dua, Amal

यह वजीफे करने की शर्त है। वजीफा लड़का और लड़की दोनों ही कर सकते हैं।अगर लड़के का तलाक हो गया तो लड़का भी कर सकता या लड़की का तलाक होगा तो लड़की भी कर सकती है।दूसरी जगह शादी होने के लिए।अल्लाह ने चाहा तो दूसरी शादी भी हो जाएगी बेहतर तरीकों से।

यह वजीफा आपको रोजाना मुकमल 41 दिनों तक करना है।बिना नागा करें और औरतों से दरख्वास्त है कि अपने नागे के दिनों को छोड़कर आगे से वजीफे को शुरू करें।क्योंकि यह वजीफा आपको नापाक हालत में नहीं करना है।वजीफे के लिए आपको अल्लाह ताला के कलाम मुबारक को 2400बार पढ़ना है।

या मोइदो अल्लाह ताला का खूबसूरत नाम है।जिसके करम से आपको इंशाल्लाह जरूर कामयाबी हासिल होगी।दूसरी शादी के लिए वजीफा बहुत ही कामयाब होगा इंशाल्लाह और वजीफे की चंद शर्तों को जरूर कायम रखें।

दूसरी शादी जल्दी करने की दुआ

दूसरी शादी जल्दी करने की दुआ – Dusri Shadi Jaldi Karne Ki Dua, Tarika, Wazifa, Amal, अगर किसी वजह से पहली शादी कामयाब नहीं हो रही है।तो आप इस वजीफे को कर सकते हैं।यह वजीफा दूसरी शादी जल्दी करने के लिए बहुत ही लाजवाब और आसान है।अगर किसी वजह से पहली शादी नाकाम हो गई है,या फिर दोनों में से किसी एक का इंतकाल हो गया है फौत हो गए हैं या तलाक हो गए हैं किसी वजह से तो यह वजीफा बहुत ही बेहतर है दूसरी शादी के लिए।

और यदि दूसरी शादी होने में मुश्किलें आ रही हैं,दूसरी शादी होने में वह सारी मुश्किल दूर जाएगी जो भी परेशानियां हैं।दूसरी शादी के लिए रिश्ता नहीं आ रहा है तो वह भी परेशानी आपकी जल्द ही दूर हो जाएगी। रिश्ते आने जल्दी ही शुरू हो जाएंगे।

Dusri Shadi Jaldi Karne Ki Dua

अल्लाह ने चाहा तो जल्द ही वजीफे के बीच में ही रिश्ते आने शुरू हो जाएंगे।जब भी आप अपने घर का सारा काम कर चुके हो।रात को सबसे बात वगैरह कर चुके हो।और जब आप सोने के लिए बिस्तर पर जाए तभी आपको यह वजीफा करना है।

किसी से भी बात मत करिएगा। वजीफे के लिए तीन बार सबसे पहले दरूद शरीफ पढ़िए अव्वल आखिर।आपको अल्लाह ताला का शिफती नाम या वाजदो को 1440 बार पढ़ना है फिर आपको बिना किसी से बात करें सीधी तरह सीधे सिरहाने पर मुंह कर सो जाना है।

इंशाल्लाह अगर अल्लाह ने चाहा तो दूसरे दिन भी शादी की खबर सुन सकते हैं। दूसरे ही दिन आपको इस वजीफे की कामयाबी मिल सकती है। इस वजीफे से इंशा अल्लाह बेहतर जगह रिश्ता होगा।

शौहर को दूसरी शादी से रोकने का वजीफा

शौहर को दूसरी शादी से रोकने का वजीफा – Shohar Ko Dusri Shadi Se Rokne Ka Wazifa, Dua, Tarika, Amal, अक्सर मियां बीवी का झगड़ा जब होना शुरू हो जाता है।शौहर बीवी से झगड़े के वक्त इस तरह के खयालात को जाहिर करता है।शौहर का मिजाज काफी गर्म होता है।ऐसे हालात में अक्सर तरह-तरह के झगड़े होते रहते हैं और यह झगड़े इतना बढ़ जाते हैं।

कि शौहर कहे देते है कि तुम मेरे लायक नहीं हो,तुमसे मेरी नहीं बनती, मैं तुमको नहीं रख सकता, मैं तुम को बिल्कुल भी बर्दाश्त नहीं कर सकता मार कुटाई होती है।और ससुराल से निकाल दिया जाता है और शौहर यह कहता है मैं शादी कर लूंगा दूसरी।इस तरह के कुछ हालात बहुत बुरी तरह से पैदा हो जाते हैं।

और आप अगर इन हालातों से बचना चाहते हैं।कि आपका शौहर किसी दूसरी औरत के जाल में ना फंसे तो इस वजीफे को जरूर करें।और जो शौहर दूसरी शादी की बात किया करते थे।इस वजीफे के बाद उनको दूसरी औरत का ख्याल तक नहीं आएगा।

Shohar Ko Dusri Shadi Se Rokne Ka Wazifa

दूसरी शादी करने की कोई भी ख्वाहिश नहीं बढ़ेगी उनका ज़हन बदल जाएगा साफ हो जाएगा इस वजीफे के बाद।3 से 4 दिन में ही वजीफे का असर होगा।वजीफे के लिए आपको बाद नमाज ईशा के दो रकात नफिल फरिज़ और दो नफिल हमारा नबी ए पाक सल्लल्लाहो ताला वसल्लम के नाम से पढ़नी है।

और एक सौ एक बार या अल्लाह के इस्म मुबारक हो पढ़ना है।इस वजीफे के असर से आपके शौहर का दिमाग पूरा पाक हो जाएगा।किसी भी तरह का दूसरी औरतों के लिए शादी के लिए कोई भी खयालात दोबारा नहीं आएगा।

तलाक के बाद दूसरी शादी होने का वजीफा

तलाक के बाद दूसरी शादी होने का वजीफा – Talaq Ke Baad Dusri Shadi Hone Ka Wazifa, Dua, Tarika, Amal, मर्दों के लिए तो तलाक के बाद दूसरी शादी होने में कोई मुश्किल हाल नहीं होती।लेकिन औरत के लिए ये बड़ी परेशानियों का सबब बन जाता है।जब वह तलाक होकर अपने घर जाती हैं तो उनके घरवाले तो अपना लेते लेकिन घर परिवार में रहने वाली औरतें ताना दिया करती हैं जैसे भाई की बीवी वगैरा।

वह कई बार अपने घर पर नहीं रहतीं और दूसरों के घर की छत के नीचे अपना सर छुपा कर रहतीं हैं।एक नहीं कई मुश्किलें उसकी हाले जिंदगी को बयां करती रहती है।

अल्लाह ना करे किसी को इस तरह हर दिन देखने की नौबत आए।आप उन औरतों का अंदाजा नहीं लगा सकते जो इन परेशानियों से गुजरती है।तलाक आफता की जिंदगी बड़ी परेशानियों से गुजरती हैं।ताने के साथ बेशुमार परेशानियां भी दी जाती है।

Talaq Ke Baad Dusri Shadi Hone Ka Wazifa

वजीफा चाहे तो लड़की खुद भी कर सकती है या उसके वालिद भी कर सकते हैं।वजीफे के लिए आपको बाद नमाज़ फजर की आपको दो बार सुरे यासीन पढ़ना है।आप सुरे यासीन किसी भी तरह से पढ़ सकते हैं किताब में देखकर या फिर याद हो तो वैसे ही पढ़ लीजिए।

उसके बाद अल्लाह ताला के इस्म मुबारक को 1100 सौ बार पढ़ना है اَمعيّلُ अल्लाह ताला से उम्मीदों के साथ और कामिल यकीन के साथ इस वजीफे को41 दिनों तक लगातार करते रहना है।

जब आप नमाज ईशा से फारिक हो जाए तो पांच सौ मर्तबा कोई भी दरूद चाहे दरूदे इब्राहिम या कोई भी छोटा दरूद शरीफ रोजाना पढ़ लिया करिए।अपने हक में दुआ करें इंशा अल्लाह अल्लाह ताला बेहतर से बेहतरीन करेंगे।

Akasar samaz mai dekha gaya hai ki yadi kisi ka talaq ho jaye to uski dusri shadi mai dikkate aati hai or jaldi se shadi nahi hoti. Isliye aaj hum lekar hazir hue hai Dusri Shadi Ke Liye Wazifa, Dua, Amal or Dusri Shadi Jaldi Karne Ki Dua, Tarika, Wazifa, Amal. Ise Talaq Ke Baad Dusri Shadi Hone Ka Wazifa, Dua, Tarika, Amal bhi kaha jata hai. Iske alawa yadi aap apne shohar ko dusri shadi karne se rokna chahati ho to uske liye bhi hum laye hai Shohar Ko Dusri Shadi Se Rokne Ka Wazifa, Dua, Tarika, Amal.

If you need any type of help and Guidance talks to us without any hesitation. In Sha Allah we will solve your problem.

Enquiry Form

मालदार होने का वजीफा


मालदार होने का वजीफा – Maldar Hone Ka Wazifa, Dua, Amal, Surat, Tarika, Tarike, Upay, Totke, हर इंसान जल्दी से जल्दी पैसे वाला होना चाहता है, इसके लिए आज हम आपको बतायेगे दौलत हासिल करने की दुआ और दौलतमंद बनने का वजीफा। इसे रातो रात अमीर बनने का वजीफा भी कहा जाता है.

Maldar Hone Ka Wazifa

खूब सारा पैसा कमाकर हर कोई धनवान या कहंे मालदार बनना चाहता है। इसके लिए जो कोई अपनी पसंद की रोजीरोटी का इंतजाम करता है, जिसमें इमानदारी से मेहनत करता है। उसे ही इसमें बरकत मिलती है और मालदार बनने में सफल हो पाता है।

इसलिए इसके लिए अच्छा कामधंधा या नौकरी मिलने की अल्लाह से इबादत करनी चाहिए, ताकि उसकी तंगहाली खत्म हो जाए। उसके बाद रोजी में बरकत कि लिए घर में दाखिल होते ही अस्सलामुअललैकुम वाराहमतुल्लाह कहना चाहिए। सुरह इखलास पढ़ना चाहिए।

मालदार होने का वजीफा – Maldar Hone Ka Wazifa, Dua, Amal, Surat, Tarika, Tarike, Upay, Totke

इसके साथ ही हर रोज फजर के वक्त 100 बार नीचे दिए गए आयत को नियम के साथ पढ़ने से न केवल तंगहाली दूर हो जाती है, बल्कि तरक्की मिलने से मालदार भी बना जा सकता है। इसके पहले और बाद में 11-11 बार दरूद इब्राहिम भी पढ़ें। वह आयत है-

सुबहानल्लाही वबी हमदिही सुबाहानल्लाह हिल अजीम वबी हमदीं ही अस्तगफेरुल्लाह।

यह वजीफ बहुत ही करिश्माई प्रभाव देता है और इसके पढ़़ने से पूरा दिन कामधंधे में मन रमा रहता है। इसी तरह से अगर कोई जल्द मालदार बनना चाहता है तो उसे इस आसान अमल को जरूर करना चाहिए। इसकी कोई मियाद नहीं हाती है,

बल्कि इसे अल्लाह की इबादत तौर पर अपनी दिनचर्या में शामिल कर लेना चाहिए। इस बात को जेहन में बिठा लें कि मालदार बनने का कोई तरीका बाजार में नहीं मिलता है, बल्कि उसके लिए अल्लाह ताला का सूरेह नस्र फज्र की नमाज रोजना पढ़कर खुश रखना चाहिए। ऐसा करने से धन खुद-व-खुद आ जाएगा।

दौलत हासिल करने की दुआ

दौलत हासिल करने की दुआ – Daulat Hasil Karne Ki Dua, Taweez, Wazifa, Amal, Surat, Tarika, Tarike, Upay, Totke, धन-दौलत अल्लाह की दुआ से तभी हासिल हो पाती है यदि इसके लिए ईमानदारी, लगन और मेहनत से काम किया जाए। कई बार काफी मेहनत के बावजूद मनचाही दौलत हसिल नहीं होने का मलाल बना रहता है और लगता है कि मेहनत पर पानी फिर गया।

जबकि ऐसा मेहनत के असर नही होने के कारण होता है। हर व्यक्ति के जीवन में 24 घंटे के दरम्यान ऐसा वक्त जरूर आता है जब अल्लाहताला की उसपर विशेष मेहरबानी बनती है।

इसलिए अल्लाह ताला का एक नाम चुनकर ऐसी दुआ की जाए जिससे उनकी मेहनत रंग दिखाए। उसका तरीका इस प्रकार अपनाया जाना चाहिए।

Daulat Hasil Karne Ki Dua

  • र्कुआन में दिए गए आयत को पढ़ने की शुरूआत जुमे की रात से की जानी चाहिए। वजू करने के बाद साफ चादर पर बैठ जाएं।
  • शुरुआत विस्मिल्लाी शरीफ को 21 बार पढ़कर करें। फिर 101 बार ‘या जारों’ पढ़कर अपने दोनों हाथ उठाकर अल्लाह ताला से दौलत पाने की दुआ करते हुए कहें कि अल्लाह आपको हलाल तरीके से दौलत अता फरमाएं।
  • इस अमल को दो जुमे की रात को करने के बाद ही करिश्माई असर दिखने लगेगा। पूरे सप्ताह पैसा आने का सिलसिला शुरू हो जाएगा।
  • इस दुआ को औरतें भी अपने रोजी-रोजगार में बरकत के लिए कर सकती हैं, लेकिन उन्हें हैज या माहवारी के दिनों में नहीं पढ़ने की सख्त हिदायत दी गई है।
  • रात को सोने से पहले अपनी गुनाहों और भूलवश हुए जरायम की माफी मांगें।
  • वजू कर 21 बार दरूद शरीफ और फिर धन-दौलत के लिए चुन गए अल्लाहताला के नाम ‘या वह-हाबु’ को 100 मर्तबा पढ़ें।

दौलतमंद बनने का वजीफा

दौलतमंद बनने का वजीफा – Dolat Mand Banne Ka Wazifa, Dua, Taweez, Wazifa, Amal, Surat, Tarika, Tarike, Upay, Totke, पूरी तरह से कामर्शियल हांे चुकी दुनिया में दौलत की अपनी खास अहमियत है। इसकी जरूरत कदम-कदम पर पड़ती है। इसलिए हर कोई दौलतमंद बनने की ख्वाहिश रखता है।

पुरजोर मेहनत-मशक्कत करने वाले भी उसके मुताबिक दौलत नहं बना पाते हैं और उन्हें हताशा हाथ लगती है।

इसके लिए लोगों के आगे हाथ फैलाने के बजाय अल्लाहताला के आगे हाथ फैलाकर दौलतमंद बनने का वजीफा पढ़ना चाहिए। इसके तरीके के बारे में किसी मौलवी से भी सलाह-मशवीरा कर निम्न तरीके से वजीफा पढ़ना चाहिए।

Dolat Mand Banne Ka Wazifa

  • जिस तरह से नमाज पढ़ने का तरीका है उसे अपनाते हुए वजीफा उसके साथ ही पढ़ना चाहिए। कारण अल्लाह को नमाज के बगैर वजीफा कुबुल नहीं होता है।
  • र्कुआन-ए-पाक में दोलतमंद बनने के वजीफे को 21 दिनों तक लगातार दिन में दो बार पढ़ने की सलाह दी गई है।
  • वजु बनाकर सुबह फर्ज नमाज पढे़ें। फिर दुआ करते हुए तीन बार दुरुद इब्राहिम पढ़ने के बाद 129 बार सूरह कौसर की पूरी आयत इन्ना आ त या ना कल कौसर को पढ़ें।
  • आखिर मंे फिर से दुरुद इब्राहिम तीन बार पढ़कर अल्लाह से एक बार और दुआ करें।
  • इसी तरह से रात को सोने से पहले इशा की नमाज के बाद इस वजीफे को करें।
  • वजीफे की मियाद जैसे-जैसे पूरी होती जाएगी, वैसे-वैसे आपकी रोजी-रोजगार में तरक्की मिलती चली जाएगी। वैसे दौलतमंद बन जाने की स्थिति में भी इस वजीफे का पढ़ना जारी रखना चाहिए।

रातोंरात अमीर बनने का वजीफा

रातोंरात अमीर बनने का वजीफा – Raato Raat Amir Banne Ka Wazifa, Dua, Taweez, Wazifa, Amal, Surat, Tarika, Tarike, Upay, Totke, अगर कोई शख्स चाहे कि वह रातोंरात अमीर बन जाए, तो यह संभव नहीं है। इसकी करीश्माई छड़ी र्कुआन-ए-पाके की कुछ आयतों में दी गई हैं।

उसे पढ़ने और अमल के नियमों का पालन करने पर कामधंधे को फैलाया जा सकता है। उसमें तरक्की दिन दूनी और रात चैगुनी हासिल की जा सकती है।

उससे धनोपर्जन में खुद व खुद तेजी आ जाएगी। अल्लाह के प्रति अस्था जता कर 21 दिनों तक नियमित वजीफा पढ़ना चाहिए।

Raato Raat Amir Banne Ka Wazifa

  • वजीफे की बेहद छोटी सी पंक्ति या रहीमु है, जिसे फज्र की नमाज के बाद रोजाना 500 बार पढ़ना चाहिए। इसके पहले और अंत में दरूद इब्राहिम सात-सात बार अवश्य पढ़ें। कुछ दिनों में ही इसका असर दिखने लगता है।
  • इसके अतिरिक्त या वहाब्बू वजीफे को भी रोजाना 1000 बार पढ़ने पैसा बरसने जैसी स्थिति बन जाती है। जैसा रूका हुआ पैसा मिल सकता है या फिर शुरू किया गया नया काम जबर्दस्त मुनाफे में आ सकती है।
  • इसके पढ़ने का समय रात के दस बजे के बाद का होना चाहिए तथा वजू करने और दरूद शरीफ के 51 बार पढ़ने के साथ-साथ 41 दिनों तक पढ़़ना चाहिए।
  • यह वजीफा औरतों के लिए भी है, लेकिन उन्हें माहवारी के दिनों में नहीं पढ़ना चाहिए। इस दौरान रोककर आगे के दिनों में उतने दिन शामिल कर लेना चाहिए।
  • एक दूसरी महत्वपूर्ण हिदयत यह भी दी जाती है वजीफे के दौरान अपने कामकाज पर पैनी नजर रखते हुए ईमानदारी से मेहनत करनी चाहिए। संभव हो तो सूझबूझ से काम लेते हुए आने वाली हर बाधा को दूर देनी चाहिए। कोई भी काम कल पर टालने के बजाय उसे तुरंत निपटाना चाहिए। मेहनत करने की क्षमता बढ़ा देनी चाहिए।

har koi jaldi se jaldi paise wala banna chahata hai chahe iske liye use koi bhi short cut q na apnana pade isliye aaj hum aapko Maldar Hone Ka Wazifa, Dua, Amal, Surat, Tarika, Tarike, Upay, Totke or Daulat Hasil Karne Ki Dua, Taweez, Wazifa, Amal, Surat, Tarika, Tarike, Upay, Totke bata rahe hai. Ise Dolat Mand Banne Ka Wazifa, Dua, Taweez, Wazifa, Amal, Surat, Tarika, Tarike, Upay, Totke or Raato Raat Amir Banne Ka Wazifa, Dua, Taweez, Wazifa, Amal, Surat, Tarika, Tarike, Upay, Totke bhi kaha jata hai.

If you need any type of help and Guidance talks to us without any hesitation. In Sha Allah we will solve your problem.

Enquiry Form

किसी को अपनी तरफ मेल करने का वजीफा


किसी को अपनी तरफ मेल करने का वजीफा – Kisi Ko Apni Taraf Mail Karne Ka Wazifa, Amal, Dua, Taweez, Bemisal, Tarika, Upay, यदि आप किसी को अपनी तरफ करना चाहते है तो इसके लिए आज हम लाये है लोगो को अपनी तरफ मेल करने का वजीफा और किसी लड़की को अपनी तरफ मेल करने का वजीफा। इसे किसी के दिल को अपनी तरफ मेल करने का वजीफा भी कहा जाता है

Kisi Ko Apni Taraf Mail Karne Ka Wazifa

आप जिससे प्यार करते हैं वह आपके जीवन का सबसे महत्वपूर्ण व्यक्ति है| लेकिन कभी-कभी आप अपनी इस उम्मीद को छोड़ देते हैं|आपकी उम्मीदों को छोड़ने का एक कारण यह भी हो सकता हैं की सामने वाले के लिए यह मायने नहीं रखता है कि आप उनके जीवन में मौजूद हैं या नहीं|

लेकिन यहाँ हम आपसे कहना चाहेंगे कि आप निराश ना हों, क्योंकि किसी विशिष्ट व्यक्ति को अपने जीवन में आकर्षित करने के लिए इस्लामी वजीफा का विकल्प है।

किसी को अपनी तरफ मेल करने का वजीफा – Kisi Ko Apni Taraf Mail Karne Ka Wazifa, Amal, Dua, Taweez, Bemisal, Tarika, Upay

“किसी को अपनी तरफ मेल करने का वजीफा” के प्रयोग के बाद आपकी ओर से किया हुआ हर प्रयास आपके वांछित को आकर्षित करेगा और धीरे-धीरे वे आपके प्यार में पड़ जाते हैं।

इसलिए जल्दी से नीचे दिये हुए इस्लामी वजीफ़ा को आजमायेऔर अपने इच्छित व्यक्ति के साथ सुंदर जीवन का आनंद लें।

  • यह एक मूल्यवान अमल है जिसे किसी को अपनी तरफ मेल करने का वजीफा” के नाम से जाना जाता है।
  • इस वजीफ़ा के लिए आप कुछ सरसों के दानों को हाथ में लेकर इस दुआ को 100 मरतबा पढ़े-
  • “अलकबरी असिमुद्दीन नब्ज़ नसल्लाह वसितुल्लाह वसीमे मुकरेडीन मुसद्दी मुहर्म मस्सान वाजिब|”
  • अब इन सरसों के दानों पर बिस्मिल्लाह पढ़ कर तीन बार फूँक मारे| इसके पश्चात मौका देख कर जिसे अपनी ओर मिलना हैं उसके कमरे में ये सरसों के दानों को फेंक दें|
  • यदि संभव हो, तो उस व्यक्ति के सोने वाले बिस्तर पर इस तिलिस्म सरसों के दानों को फैला दें| इस अमल का असर आपको जल्द ही देखने को मिलेगा|
  • इस अमल के उपयोग से आप अपनी गुणवत्ता जो कि अभी तक कम हैं, उसे एक लेवल तक बढ़ जाने के कारण अटूट आत्म-विश्वास महसूस करते हैं, जिससे आप यह समझ सकते हैं कि आप एक बाघ हैं और इस गुणवत्ता की मदद से आप किसी भी व्यक्ति को आकर्षित कर सकते हैं|

लोगो को अपनी तरफ मेल करने का वजीफा

लोगो को अपनी तरफ मेल करने का वजीफा – Logo Ko Apni Taraf Mail Karne Ka Wazifa, Amal, Dua, Taweez, Bemisal, Tarika, Upay, अक्सर आपने देखा होगा कि कुछ लोगो के व्यक्तित्व में कुछ ऐसी बात होती हैं कि सभी उनकी ओर आकर्षित होते हैं|

वो जो भी कहते हैं, लोग उनकी बातों को यन्त्र्वत मानते हैं| यदि आप भी चाहते हैं कि लोग आपकी बातों को माने तो आपको इसके लिए नीचे बताए हुए वजीफ़ा का उपयोग करनी चाहिए:-

Logo Ko Apni Taraf Mail Karne Ka Wazifa

  • जुम्मे से ठीक अगले दिन किसी नदी के किनारे जा कर, इस वजीफ़ा को 22 मर्तबा पढे:-
  • “अल्लाह मुझे इस काबिल बना कि इस दुनिया पर राज कर सकूँ, मेरे नश्तर को अपने आगोश का पनाह दे, बिस्मिल्लाह|”
  • इस दुआ को पढ़ते समय अपना मुंह पश्चिम की ओर रखे|
  • दुआ को पढ़ने के बाद आस-पास से तीन कंकर उठा कर अल्लाह को याद कर के धीरे से एक एक करके नदी में फेंक दें|
  • आप जब ये सारी प्रक्रिया पूरी कर चुके हों, तो सीधे अपने घर जाएं, पीछे मुड़कर न देखें| ना ही रास्ते में किसी से बोले| घर पहुँच कर हाथ- पैर धो कर किसी साफ जगह पर बैठ कर 3 बार दारुदे-शरीफ को पढ़े|
  • यह प्रक्रिया लगातार 7 दिनों तक दुहराये| अर्थात अगले जुम्मे तक|सातवां दिन पूरा भी नहीं होगा किआप पाएंगे, आपके व्यक्तित्व में चमत्कारी परिवर्तन होने लगे हैं| पहले जो लोग आपको तवज्जो नहीं देते थे, वही अब छोटी- से छोटी बात पर आपकी राय लेंगे|
  • लोगो को अपनी तरफ मेल करने का यह सबसे कारगर वजीफा हैं, जिसके प्रयोग से आप पूरी कायनात पर राज करने के लिए खुद को सक्षम बना सकते हैं|

किसी लड़की को अपनी तरफ मेल करने का वजीफा

किसी लड़की को अपनी तरफ मेल करने का वजीफा – Kisi Ladki Ko Apni Taraf Mail Karne Ka Wazifa, Amal, Dua, Taweez, Bemisal, Tarika, Upay, असाधारण रूप से तब उपयोगी है जब आपको अपने जीवन में अपने किसी खास व्यक्ति के आकर्षण की आवश्यकता होती है। वर्तमान में कई युवाओं ने अपने प्यार की कल्पना को खो दिया हैं,

हालांकि उन्हें किसी भी जतन को करके अपनी क्षमता को याद करवाने की आवश्यकता है। इस्लाम में, एक ठोस दुआ की चर्चा की गई हैं, जो आपके किसी लड़की के प्यार को पाने केलिए आपकी स्नेह की तीव्रता को बढ़ाने पर ज़ोर देता है।

किसी लड़की को अपनी तरफ मेल करने का वजीफा– यदि आप किसी लड़की से दिलोजान से मोहब्बत करते हैं और चाहते हैं कि बदलें में वो लड़की भी आपसे उतना ही प्यार करे तो इसके लिए आप नीचे दिये हुए अमल को आजमाए:-

Kisi Ladki Ko Apni Taraf Mail Karne Ka Wazifa

  • सबसे पहले मध्य रात्री के समय जब घर के सभी लोग सो गए हो, तो किसी कोने में बैठ कर अपने सामने एक मटके को उल्टा कर के रख ले|
  • अब काजल की मदद से इस मटके पर उस लड़की के आँख, नाक, कान और मुंह आदि बना दें| चित्र के नीचे लड़की का नाम भी लिख दें|
  • इसके बाद 3 मर्तबा दारुदे-शरीफ को पढ़े| तत्पश्चात नीचे दिये हुए वजीफ़ा को 100 मर्तबा दुहराये| हर-बार वजीफ़ा पूरा होने पर मटके पर बिस्मिल्लाह बोल कर फूँक मारे|
  • अल्लाह अल्लाहू आसन बंधु सिस पास हुएबन्धु सोहनी मरुबा की जाबां नब्ज इल्म नखाइएत बिस्मिल्लाह|”यह सारी प्रक्रिया पूरी होने के बाद इस मटके को पूरी रात आँगन में हो छोड़ दें और सुबह तड़के घर में किसी के जागने से पहले इस मटके को पास के किसी कब्रिस्तान में ले जा कर छोड़ आए|
  • इस वजीफ़ा के असर से वो लड़की आपके मोहब्बत में पूरी तरह से दीवानी हो जाएगी|

किसी के दिल को अपनी तरफ मेल करने का वजीफा

किसी के दिल को अपनी तरफ मेल करने का वजीफा – Kisi Ke Dil Ko Apni Taraf Mail Karne Ka Wazifa, Amal, Dua, Taweez, Bemisal, Tarika, Upay, हमें इस बात का एहसास है कि जिस घटना में आप अपने रमणीय मोहब्बत को पाने के लिए छटपटा रहे होते हैं, उस समय इच्छाएँ बहुत आहात होती हैं।

हम इस्लामी वजीफ़ा के उपयोग से इस बात की आशा करते हैं कि अल्लाहहमारे प्यार को वापस ले आएगा| जब हम किसी के दिल को अपनी तरफ मेल करने के लिए कुरानी दुआ का उपयोग करते हैं,

उस समय गहन दुआ किसी भी संदेह से परे एक सकारात्मक शक्ति प्रदान करेंगे, ऐसा करकेहम अपनी मोहब्बत को अपने जीवन में ला पाते हैं|

स्पष्ट है कि वजीफ़ा से खुश हो कर,अल्लाह हमारी, किसी दूसरे व्यक्ति के दिल को अपनी ओर करने में मदद करेगा। आइये हम यह जानने का प्रयास करें कि “किसी के दिल को अपनी तरफ मेल करने का वजीफा” आखिर काम कैसे करेगा|

Kisi Ke Dil Ko Apni Taraf Mail Karne Ka Wazifa

  • पास के किसी कब्रिस्तान से मिट्टी ले आए| अब सहर और ईशा दोनों टाइम के नमाज अदायगी के बाद इस मिट्टी को बिस्मिल्लाह कह कर तीन बार फूँक मारे|
  • यह कार्य लगातार 7 दिनों तक करे| इसके बाद इस मिट्टी को किसी गमले में इकट्ठा कर ले और उसमें गुलाब का पौधा लगाए|
  • रोज सुबह-शाम नमाज पढ़ने के बाद इस पौधे में पानी डालें| जब इस गुलाब के पौधे से पहला फूल खिले तो उसे तोड़ कर आप जिस के भी दिल को जितना चाहते हैं, उसे भेंट कर दें|
  • इस फूल में अल्लाह-ताला की दुआओं का असर होगा|इसे पाते ही वह बंदा आपका कायल हो जाएगा|
  • वजीफ़ा वह तरीका है जिसके कारण आप सभी चीजों को संभव बना सकते हैं और अपनी इच्छित चीजों को अपने अनुसार बदल सकते हैं। एक मनुष्य का जीवन उसके कर्मो के अनुसार बदल जाता है और खराब स्थिति शुरू हो जाती है,

इसलिए इस्लामी वजीफ़ा वह है जिसके कारण आप अपनी वस्तुस्थिति का निर्धारण कर सकते हैं और अपने पक्ष के अनुसार अपनी इच्छा पूरी करने के लिए उपाय कर सकते हैं|

doston yadi aap kisi ko apni taraf karna chahate hai to aaj hum aapke liye lekar aaye hai Kisi Ko Apni Taraf Mail Karne Ka Wazifa, Amal, Dua, Taweez, Bemisal, Tarika, Upay or Logo Ko Apni Taraf Mail Karne Ka Wazifa, Amal, Dua, Taweez, Bemisal, Tarika, Upay. hum aapko sabse takatwar wazifa dete hai or yadi aap kisi se bhi mail karna chahate hai to fir ye aapke liye hai. ise Kisi Ladki Ko Apni Taraf Mail Karne Ka Wazifa, Amal, Dua, Taweez, Bemisal, Tarika, Upay ya Kisi Ke Dil Ko Apni Taraf Mail Karne Ka Wazifa, Amal, Dua, Taweez, Bemisal, Tarika, Upay bhi kaha jata hai.

If you need any type of help and Guidance talks to us without any hesitation. In Sha Allah we will solve your problem.

Enquiry Form

पसंद की शादी के लिए इस्तिखारा


पसंद की शादी के लिए इस्तिखारा – Pasand Ki Shadi Ke Liye Istikhara, Dua, Wazifa, Taweez, Upay, Tarika, Amal, Hindi, Urdu, दोस्तों हर इंसांन चाहे वो लड़की हो या लड़का सब अपने पसंद की शादी करना चाहते है, इसलिए हम आज आपको शादी के लिए किसी को मनाने का इस्तिखारा और मोहब्बत की शादी के लिए इस्तिखारा कैसे करे के बारे मे बतायेगे। इसके अलावा आज हम आपको शादी कब होगी इस्तिखारा से कैसे जाने के बारे मे भी बतायेगे

Pasand Ki Shadi Ke Liye Istikhara

क्या आप भी अपनी पसंद के लड़के या लड़की से शादी करना चाहते है? और क्या आपकी शादी में किसी प्रकार की कठिनाइयां आ रही है? क्या आप जिससे प्यार करते है, वह किसी अन्य व्यक्ति से प्यार करता है? इन सब परेशानियों को दूर करने के लिए आप पसंद की शादी के लिए इस्तिखारा कर सकते है।

पसंद की शादी के लिए इस्तिखारा – Pasand Ki Shadi Ke Liye Istikhara, Dua, Wazifa, Taweez, Upay, Tarika, Amal, Hindi, Urdu

जब भी किसी काम में दिक्कत या परेशानी आए तो इस्तिखारा की मदद ली जा सकती है। इस्तीखारा करने से हमारी अड़चनें दूर हो जाती है और आगे का रास्ता बिल्कुल साफ हो जाता है। यदि आप किसी से बेइंतहा मोहब्बत करते है और आप उससे शादी करना चाहते है तो आप पसंद की शादी के लिए इस्तिखारा की मदद ले सकते है।

  • पसंद की शादी के लिए इस्तिखारा बहुत ही शक्तिशाली वजीफा है। यह वजीफा आपको किसी साफ कमरे में तन्हा होकर करना है। पसंद की शादी के लिए इस्तिखारा शुरू करने से पहले वुज़ू बना लें और पाक कपड़े पहन लें। अब सबसे पहले 11 मरतबा दुरूद ए पाक पढ़े। इसके बाद आपको पसंद की शादी के लिए इस्तिखारा पढ़ना है-
  • बिस्मिल्लाह ही वासी ऊ’जल्ला आला लुहू
  • यह इस्तिखारा आपको 300 मरतबा पढ़ना है। इसे पढ़ने के दौरान आपको उस शख्स का ख्याल अपने दिमाग में रखना है, जिससे आप शादी करना चाहते है। पसंद की शादी के लिए इस्तिखारा पढ़ने के बाद फिर से 11 बार दुरूद ए पाक पढ़े।
  • अब आपको अपने दोनों हाथों की हथेलियों पर दम करना है और उसे अपने पूरे चेहरे पर फेरना है। पसंद की शादी के लिए इस्तिखारा आपको हर रोज़ करना है, जब तक आपकी शादी पक्की नहीं हो जाती।

शादी के लिए किसी को मनाने का इस्तिखारा

शादी के लिए किसी को मनाने का इस्तिखारा – Shadi K Liye Kisi Ko Manane Ka Istikhara, Dua, Wazifa, Taweez, Upay, Tarika, Amal, Hindi, Urdu, शादी-ब्याह के मामले में अक्सर ऐसा होता है कि लड़का-लड़की एक दूसरे से बहुत मोहब्बत करते है, लेकिन उनके घरवालों को यह रिश्ता मंजूर नहीं होता।

खासतौर पर एक लड़की के लिए अपने घरवालों को राज़ी करना ज्यादा मुश्किल होता है। लेकिन आज के समय में कई बार लड़के के घरवाले भी शादी के लिए राज़ी नहीं होते। वह लड़का और लड़की अपने घरवालो को हर तरीके से मनाने की कोशिश करते है,

लेकिन उनकी सारी कोशिशें नाकाम होती नज़र आती है। जब आपकी सारी कोशिशे नाकाम हो जाए तो शादी के लिए किसी को मनाने का इस्तिखारा का इस्तेमाल करें। शादी के लिए किसी को मनाने का इस्तिखारा की मदद से आप किसी को भी शादी के लिए आसानी से मना सकते है।

Shadi K Liye Kisi Ko Manane Ka Istikhara

शादी के लिए किसी को मनाने का इस्तिखारा के लिए आपको सबसे पहले पाँचों वक्त नमाज़ की पाबंदी करनी होगी। हर रोज़ फज्र की नमाज़ के बाद आपको बिस्मिल्लाह शरीफ 786 मरतबा पढ़ना होगा। इसके बाद रात को सोने से पहले 40 दिन तक शादी के लिए किसी को मनाने का इस्तिखारा पढ़े। इस इस्तिखारा का वजीफा इस प्रकार है-
या लतीफू’ या सलाम

यह वजीफा पढ़ने से पहले और बाद में 11-11 बार दुरूद ए पाक अवश्य पढ़े। शादी के लिए किसी को मनाने का इस्तिखारा पूरा होने के बाद आपको बिस्तर पर जाकर सो जाना है और सोते समय केवल अपने महबूब के बारे में ही सोचना है।

शादी के लिए किसी को मनाने का इस्तिखारा की मदद से इंशाल्लाह 40 दिनों के भीतर ही आप किसी को भी शादी के लिए मना सकते है।

मोहब्बत की शादी के लिए इस्तिखारा कैसे करे?

मोहब्बत की शादी के लिए इस्तिखारा कैसे करे? – Mohabbat Ki Shadi Ke Liye Istikhara Kaise Kare?, Dua, Wazifa, Taweez, Upay, Tarika, Amal, Hindi, Urdu, इस दुनिया में हर शख्स चाहता है कि जिस इंसान से वह मोहब्बत करता है, उसकी के साथ उसका निकाह हो जाए। लेकिन मोहब्बत की शादी हर किसी को नसीब नहीं होती।

कुछ लोग अपनी मोहब्बत से शादी करने के बहुत प्रयास करते है, उनकी इज्जत भी करते है और उन्हें संसार का हर सुख देने का वादा भी करते है। इन सबके बावजूद कई बार महबूब शादी के लिए मना कर देता है।

जिससे हम प्यार करते है अगर वह शादी के लिए मना कर दे तो दिल को बहुत तकलीफ होती है और उसके बाद हमारा प्यार पर से विश्वास भी उठ जाता है।

यदि आपके साथ भी ऐसा ही कुछ हुआ है और आप अपनी आने वाली ज़िन्दगी अपने मुताबिक जीना चाहते है तो हम आपको बता रहे है मोहब्बत की शादी के लिए इस्तिखारा कैसे करें।

Mohabbat Ki Shadi Ke Liye Istikhara Kaise Kare?

मोहब्बत की शादी के लिए इस्तिखारा कैसे करे में हम आपको बताएंगे कि किस तरह आप अपने महबूब को शादी के लिए राज़ी कर सकते है। यह इस्तिखारा जानने के लिए आप किसी मौलवी साहब से राबता कर सकते है।

इस्लामिक पुस्तक कुरान ए पाक में बताया गया है मोहब्बत की शादी के लिए इस्तिखारा कैसे करे। इसके अलावा भी अन्य कई इस्तिखारे और वजीफे इनमें दिए गए है।

ध्यान रखिए यदि आपको अल्लाह ताला और कुरान में विश्वास हो तभी मोहब्बत की शादी के लिए इस्तिखारा कैसे करे का इस्तेमाल करें।

बिना विश्वास के कोई भी इस्तिखारा कभी सफल नहीं हो सकता। मोहब्बत की शादी के लिए इस्तिखारा कैसे करे जानने के लिए आप हमसे भी संपर्क कर सकते है।

शादी कब होगी इस्तिखारा से कैसे जाने?

  • शादी कब होगी इस्तिखारा से कैसे जाने? – Shadi Kab Hogi Istikhara Se Kaise Jane? Dua, Wazifa, Taweez, Upay, Tarika, Amal, Hindi, Urdu, आपने देखा होगा कुछ लोग अपनी शादी को लेकर बहुत परेशान और चिंतित रहते है। वे हर वक्त बस यही सोचते रहते है कि उनकी शादी कब होगी, किससे होगी, कैसे होगी और कहाँ होगी।
  • यदि आप भी अपनी शादी को लेकर परेशान है तो शादी कब होगी इस्तिखारा से कैसे जाने की मदद से आसानी से अपनी शादी के बारे में सभी बातें जान सकते है।
  • आज हम आपको बताएंगे शादी कब होगी इस्तिखारा से कैसे जाने।

Shadi Kab Hogi Istikhara Se Kaise Jane

शादी कब होगी इस्तिखारा से कैसे जाने में हम आपको एक ऐसा वजीफा बताएंगे, जो आपको रात को सोने से पहले पढ़ना होगा। यह वजीफा बहुत ही सरल है और इस वजीफे के अमल के बाद आप जान जाएंगे कि आपकी शादी कब और किसके साथ होगी। शादी कब होगी इस्तिखारा से कैसे जाने के लिए रात को सोने से पहले वुज़ू बना लें। अव्वल में सात बार दुरूद ए पाक पढ़े और फिर नीचे दिया गया वजीफा पढ़े-

अलम यजीदा यतीमान फवा यू रब्बिका
यह वजीफा पढ़ने के बाद फिर से 11 बार दुरूद ए पाक पढ़े। शादी कब होगी इस्तिखारा से कैसे जाने के लिए अब आपको बिना किसी से बात किए सो जाना है।

इसके बाद रात को सपने में आपको सभी प्रशनों के उत्तर मिल जाएंगे और आपकी शादी कब होगी यह भी पता चल जाएगा। शादी कब होगी इस्तिखारा से कैसे जाने का प्रयोग आपको जुमे की रात को करना होगा।

Doston har insann ke dil mai shadi ko lekar bahut sapne hote hai, har insaan chahe wo ladka ho ya ladki sabhi apni pasand se shadi karna chahate hai. Isliye aaj hum aapko Pasand Ki Shadi Ke Liye Istikhara, Dua, Wazifa, Taweez, Upay, Tarika, Amal, Hindi, Urdu or Shadi K Liye Kisi Ko Manane Ka Istikhara, Dua, Wazifa, Taweez, Upay, Tarika, Amal, Hindi, Urdu batane ja rahe hai. Iske alawa aaj hum aapko aapke do sawalo ke bare mai bhi batayege jo hai Mohabbat Ki Shadi Ke Liye Istikhara Kaise Kare?, Dua, Wazifa, Taweez, Upay, Tarika, Amal, Hindi, Urdu or Shadi Kab Hogi Istikhara Se Kaise Jane? Dua, Wazifa, Taweez, Upay, Tarika, Amal, Hindi, Urdu.

If you need any type of help and Guidance talks to us without any hesitation. In Sha Allah we will solve your problem.

Enquiry Form

हमल ठहरने का वजीफा


हमल ठहरने का वजीफा – Hamal Tehrane Ka Wazifa, Tarika, Dua, Tareeqa, Amal, Upay, यदि आपका हमल गिर जाता है तो आज हम आपको हमल को महफूज़ रखने की दुआ और गर्भ ठहरने का वजीफा बता रहे है. इसको जल्दी डिलीवरी होने की दुआ भी कहते है

Hamal Tehrane Ka Wazifa

शादीसुदा लोग और उनके परिजनों की पहली तमन्ना होती है कि उसकी जिंदगी में औलाद आए। इसमें जब देरी होने लगती है तब अधिकतर परिवार वाले बीवी को कोसने लगते हैं और शौहर भी बीवी के गर्भ नहीं ठहरने को लेकर चिंता में पड़ जाता है।

र्कुआन-ए-पाक में कई आयतें दी हुई हैं, जिनको कायदे से पढ़ने पर औरत को हमल का वजीफा हासिल होता है और गर्भ ठहरने से लेकर बच्चे के जन्म तक में कोई अड़चन नहीं आती है।

हमल ठहरने का वजीफा – Hamal Tehrane Ka Wazifa, Tarika, Dua, Tareeqa, Amal, Upay

  • हमल ठहरने का यह वजीफा अजीबो-गरीब करगर अमल है। जानकार मौलवी का कहना है यह हमल ठहरने का करिश्माई रूहानी इलाज है और औरतों को इसके जरिए यकीनन औलाद हासिल होती है। इसे सात दिनों लगातार इस प्रकार पढ़़ा जाना चाहिए।
  • सूती लाल धागा लेकर हमल को इच्छुक व्यक्ति ताजा वजू बना लें और जिस औरत के लिए हमल ठहरने की दुआ करनी है उनके सिर से लेकर पैर के अंगूठ तक धागे की नाप कर लें।
  • नापे हुए धागे को हाथ में लेकर बिस्मिल्लाह हिरर्हमान निरर्र्हीम पढ़ें।
  • उसके बाद कलमा तय्यब के साथ इस्म मुबारक ‘ अस-सबूरुला इल्लाहु मुहम्मादुर रसूलुल्लाह’ पढ़ें। इसके पहले सात बार दारूद शरीफ भी पढ़ें।
  • फिर धागे के एक छोर पर गांठ लगाकर दम करें।
  • इसी तरह से कलमा तय्यब को सात बार पढ़ते हुए धागे पर सात गांठ लगाकर दम करें। गांठ थोड़ी-थोड़ी दूरी पर लगाएं। अंत में फिर से दारूद शरीफ सात बार पढ़ें।
  • इस धागे को औरत की कमर में बांध दें।

जल्दी डिलीवरी हाने की दुआ

जल्दी डिलीवरी हाने की दुआ – Jaldi Delivery Hone Ki Dua, Wazifa, Tarika, Tareeqa, Amal, Upay, कई बार देखा गया है कि गर्भवती औरत की डिलीवरी में देरी होने लगती है। डाक्टर जो तारीख देते हैं उससे कई दिन गुजरने के बाद भी डिलीवरी नहीं हो पाती है। यह स्थिति गर्भवती औरत के साथ-साथ गर्भस्थ बच्चे के लिए भी खतरनाक हो सकती है।

इस दौरान शौहर को चाहिए कि वह जल्द से जल्द इस प्िरक्रया पूरी करवाए। हालांकि कुछ चीजें हमारे वश में नहीं होती उसे अल्लाहताल के रहमो-करम पर छोड़कर उनकी दिल से इबातद करनी चाहिए।

बच्चे की जल्द अर्थात समय पर और सुरक्षित पैदाइश की दुआ करने के लिए मौलवी से सलाह-मश्वीरा करनी चाहिए। मौलाना द्वारा कुछ नियमों का पालन करते हुए दुआ के साथ अमल करनी होगी। यह दुआ नाॅर्मल पेन पैदाइश के लिए असरदार दुआ है।

Jaldi Delivery Hone Ki Dua

  • सबसे पहली बात यह है कि बच्चे की पैदाइश में देरे होने या दर्द की शिद्दत ज्यादा होने पर इसे करने के लिए रात को सोने से पहले ताजा वजू बना लें।
  • एक पाक-साफ सफेद कागज पर लाल स्याही की कलम से आयत को लिख लें। आयत है- सल्लाअल्लाहु अल मुहम्मद सल्लाअल्लहु अलायहे वासल्लाम।
  • फिर पाक-साफ कपड़े से इसे बांधकर ताबीज बना दें। उसके बाद इस आयत को 111 बार पढ़ लें। इसके पहले और अंत में 11-11 बार दरूद इब्राहिम को भी पढ़़़ लें।
  • उसके बाद ताबीज को गर्भवती औरत की बाई जांघ में बांध दें। इंशा अल्लाह सुबह होते-होते बच्चे की पैदाइश में होने वाली देरी खत्म हो जाएगी और लेबर पेन का एहसास होने लगेगा।
  • ध्यान रहे कि बच्चा पैदा होने के बाद उस ताबीज को तुरंत खोल दें और पाक-साफ जगह जैसे पेड़-पौधे की जड़ के पास मिट्टी में दफन कर दें।

हमल को महफूज रखने की दुआ

हमल को महफूज रखने की दुआ – Hamal Ko Mehfooz Rakhne Ki Dua, Wazifa, Tarika, Tareeqa, Amal, Upay, Hindi, Urdu, किसी औरत का हमल ठहरना और बच्चे के जन्म होने तक महफूज बनाए रखाने के लिए अल्लाहताला की तहे दिल से इबादत करनी चाहिए। इसके अलावा खास तरह से दुआ भी करनी चाहिए, ताकि हमल को कोई नुकसान नहीं होने पाए।

बच्चे की पैदाइश में भी कोई अड़चन नहीं आने पाए। सामान्यतः पांच-सात सप्ताह के दौरना हमल के नुकसान पहुंचने का खतरा बना रहता है और उसके खराब होने की स्थिति में खूनजारी हो जाता है।

Hamal Ko Mehfooz Rakhne Ki Dua

  • हमल की हिफाजत करने का एक बहुत असरदार वजीफा ‘‘या मुब्बदी’’ है, जिसे एक सप्ताह तक लगातार प्रतिदिर 99 बार पढ़ने की सलाह दी गई है। इसके अतिरिक्त या रकीबु को भी 111 बार पढ़ जा सकता है।
  • इसे गर्भस्थ औरत, उसका शौहर या दोनों एक साथ पढने के बाद दम़ करना चाहिए।
  • सबसे पहले नमाजें का पाबंदी जरूर करें। इस्लाम में ऐसी मान्यता है कि इससे बड़ा कोई वजीफा या दुआ नहीं है।
  • वजीफे की आयत को सही वजू और तलफ्फुज के साथ पढ़ें।
  • इसके पहले और अंत में दारूद शरीफ को भी 11-11 बार जरूर पढ़ें। उसके बाद दम करें।
  • इसे पढ़ने की शुरूआत किसी भी दिन से की जा सकती है, लेकिन समय सुबह नौ बजे तक का होने से अच्छा होगा।
  • इसे पूरे नौ माह पढ़ जा सकता है, लेकिन इस दौरान कुछ रोज नागा होने का कोई मसला नहीं है।

गर्भ ठहरने का वजीफा

गर्भ ठहरने का वजीफा – Garbh Thehrne Ka Wazifa, Dua, Tarika, Tareeqa, Amal, Upay, Hindi, Urdu, किसी विवाहिता के गर्भ ठहरने में अगर देरी हो रही हो या किसी तरह की अन्य बाधा आ रही हो तो उन्हें गर्भ ठहरने के वजीफे का अमल करना चाहिए।

इस्लाम के अनुसार र्कुआन-ए-पाक में कहा गया है कि औलाद देने या नहीं देने की सिर्फ और सिर्फ अल्लाह की रजामंदी चलती है।

Garbh Thehrne Ka Wazifa

  • किसी औरत के गर्भ ठहरने के लिए नमाजें पढ़ने के साथ-साथ दिए गए आयत को नियमित रूप से पढ़ना चाहिए। आयत है-
  • लिल लाहि मुल्कुल सामावाती वाल अर्ज
  • याख्लुकु मा यशाऊ याहबू लिमय याशाऊ ठनासव व यहबू लिमय याशाऊज जुकूर।
  • इसे फज्र की नमाज के बाद 133 बार पढ़कर पानी पर फूंक मारें। फिर मिंया-बीवी उसके आधे-आधे हिस्से को पी लें।
  • इसी तरह से एक अन्य आयत को भी मियां-बीवी द्वारा कम से कम फज्र की नमाज के बाद तीन बार जरूर पढ़ना चाहिए। आयत है- जकरिय्या इज नादा रब्बहू रब्बी ला तजरनी फरदव व अन्त खैरुल वारिसीन। अर्थात ऐ मेरे रब मुझे अकेल नहीं छोड़ और तू बेहतरीन वारिस बनाने वाला है।


दूसरा आयत है- रब्बी हब ली मिनस सालिहीन ।

हुनालिका दआ जकरिय्या रब्बह काल रब्बी हब ली मिल लदुन्का जुर्रिय यतन तय्यिबह इन्नका समीउद दुआ।
इन आयातों नमाज की पूरी नेमत के साथ पढ़ना चाहिए। साथ ही इन्हें हर नवविवाहितों को विवाह के बाद से ही पढ़़ने की शुरूआत कर देनी चाहिए।

हर वजीफे को पढ़ने का अगर कोई वक्त और संख्या मुकर्रर किया गया है, तो उसे उसी वक्त में उतनी ही मर्तबा पढ़ना चाहिए।
जिस भी आयत में कुरानी या अल्लाह का नाम दिया गया है, तो उसके अरबी शब्द का तलफ्फुज सही तरह से सही वजू के होना चाहिए।

Hamare paas bahut se log puchte hai ki unka hamal nahi thahrta isliye aaj hum aapko Hamal Tehrane Ka Wazifa, Tarika, Dua, Tareeqa, Amal, Upay or Hamal Ko Mehfooz Rakhne Ki Dua, Wazifa, Tarika, Tareeqa, Amal, Upay, Hindi, Urdu batayege. Is dua/wazifa ko log Jaldi Delivery Hone Ki Dua, Wazifa, Tarika, Tareeqa, Amal, Upay ya Garbh Thehrne Ka Wazifa, Dua, Tarika, Tareeqa, Amal, Upay, Hindi, Urdu bhi kahate hai.

If you need any type of help and Guidance talks to us without any hesitation. In Sha Allah we will solve your problem.

Enquiry Form

हर मुश्किल के लिए सूरह फातिहा का वजीफा


हर मुश्किलात के लिए सूरह फातिहा का वजीफा – Har Mushkilat Ke Liye Surah Fatiha Ka Wazifa, Dua, Amal, ज़िन्द्की मुस्किलो से भरी हुए है और रोज़ रोज़ हमको नयी नयी मुस्किलो का सामना करना पड़ता है. इसलिए आज हम आपको तीन मुस्किलो से बचने के उपाय बतायेगे। पहला है सूरह फातिहा का मोहब्बत का वजीफा दूसरा है औलाद होने के लिए सूरह फातिहा का वजीफा और तीसरा है सूरह फातिहा का वजीफा शादी के लिए

Har Mushkilat Ke Liye Surah Fatiha Ka Wazifa

ज़िन्दगी में जब भी आपके सामने कोई मुश्किल आए तो आप हर मुश्किलात के लिए सूरह फातिहा का वजीफा पढ़ सकते है। इस्लाम की पवित्र पुस्तक कुरान ए पाक की पहली सूरह है सूरह फातिहा। यह सूरह बेहद ही चमत्कारी है। इसमें अल्लाह के पाँच खूबसूरत नाम का ज़िक्र है, जिन्हें पढ़ने से दिल को बेहद ही सुकून मिलता है।

हर मुश्किलात के लिए सूरह फातिहा का वजीफा – Har Mushkilat Ke Liye Surah Fatiha Ka Wazifa, Dua, Amal

इस दुनिया में हर इंसान की ज़िन्दगी में मुसीबते जरूर आती है। अल्लाह के नेक बंदे आसानी से इन मुसीबतो का सामना कर लेते है। लेकिन कई बार कुछ ऐसी परेशानियां भी आ जाती है, जिन्हें दूर करना आसान नहीं होता।ऐसी परेशानियों से निजात पाने के लिए आप हर मुश्किलात के लिए सूरह फातिहा का वजीफा पढ़ सकते है। इसे पढ़ने से आपकी ज़िन्दगी में आने वाली सभी परेशानियां दूर हो जाएगी।

हर मुश्किलात के लिए सूरह फातिहा का वजीफा के लिए आपको रोज़ाना पाँचों वक्त की नमाज पढ़नी होगी। इसके साथ ही आपको अधिक से अधिक समय वुज़ू में रहना है। हर मुश्किलात के लिए सूरह फातिहा का वजीफा में कुल सात आयते हैं। यह वजीफा आपको इंशा की नमाज के बाद 41 मरतबा पढ़ना है। चलिए हर मुश्किलात के लिए सूरह फातिहा का वजीफा जान लेते हैं-

अल्हम दलिल्लहि रब्बिल आलामीन
अर रहीमा निर्रहीम
मालिकि अव यौमिद्दीन
इय्याक न अबुदु वा इय्याका नस्तईन
इहदिनस् सिरातल इल्ली उस्तक़ीम
सिरातल लज़ीना अन अयाता अलय हिम
गैरिल मग़रूबी अलय हिम् व लद लीन

हर मुश्किलात के लिए सूरह फातिहा का वजीफा पढ़ने से पहले और बाद में 11 बार दुरूद ए पाक अवश्य पढ़े। दुरूद ए पाक पढ़ने से वजीफा ज्यादा मजबूत हो जाता है और इसका असर भी जल्दी होता है।

सूरह फातिहा का मोहब्बत का वजीफा

सूरह फातिहा का मोहब्बत का वजीफा – Surah Fatiha Ka Mohabbat Ka Wazifa, Dua, Amal, यह जीवन का सफर बहुत लंबा है और इसे काटने के लिए हमे एक जीवनसाथी की जरूरत पड़ती है। ऐसे में जिस शख्स से हम मोहब्बत करते है, यदि उसके साथ इस जीवन का आनन्द लिया जाए तो इसका मजा कई गुना बढ़ जाता है।

लेकिन यह दुनिया बहुत ही जालिम है। इस दुनिया में दो सच्चे प्यार करने वाले आशिकों का मिलना बहुत मुश्किल है। लेकिन यदि आप किसी से सच्चा प्रेम करते है तो दुनिया की कोई ताकत आपको अलग नहीं कर सकती है।

अपने मोहब्बत के रिश्ते को मजबूत करने के लिए आप सूरह फातिहा का मोहब्बत का वजीफा पढ़ सकते है।

Surah Fatiha Ka Mohabbat Ka Wazifa

  • यदि आप किसी से सच्चे दिल से मोहब्बत करते है और उसे अपना बनाना चाहते है तो यह सूरह फातिहा का मोहब्बत का वजीफा अपना सकते है। इसके लिए आपको रात 11 बजे हमारे द्वारा बताया गया यह अमल करना है। सबसे पहले वूज़ू बना ले और अपन सामने अपनी मोहब्बत की तस्वीर रख लें। इसके बाद आपको 41 बार सूरह फातिहा का मोहब्बत का वजीफा पढ़ना है।
  • यह वजीफा पढ़ने के बाद आपको थोड़े सा पानी लेकर दम करना है। उस पानी में से तीन घूंट पी ले और कुछ बूंदे लड़की की तस्वीर पर डाल दें। अब वह तस्वीर रात भर अपने तकिए के नीचे रखकर सो जाए।सूरह फातिहा का मोहब्बत का वजीफा पर आपको 21 दिनों तक अमल करना है।

औलाद होने के लिए सूरह फातिहा का वजीफा

औलाद होने के लिए सूरह फातिहा का वजीफा – Aulad Hone Ke Liye Surah Fatiha Ka Wazifa, Dua, Amal शादी के बाद एक दंपत्ति की जिन्दगी में औलाद का सुख सबसे बड़ा सुख होता है। निकाह के कुछ समय के बाद हर मियां बीवी चाहते है कि उनके घर में भी बच्चों की आवाज़ गुंजे।

लेकिन कई बार लाख कोशिश करने के बाद मियां बीवी को सफलता नहीं मिल पाती। यदि शादी के कई साल बाद भी पति-पत्नी को औलाद सुख की प्राप्ती ना हो तो उन्हें लोगों के ताने सुनने पड़ते है।

इसके अलावा समाज में महिलाओं को बांझ का दर्जा दे दिया जाता है। यदि आप भी औलाद का सुख पाना चाहते है और समाज में अपनी बदनामी से बचना चाहते है तो एक बार औलाद होने के लिए सूरह फातिहा का वजीफा का इस्तेमाल करें।

Aulad Hone Ke Liye Surah Fatiha Ka Wazifa

  • औलाद होने के लिए सूरह फातिहा का वजीफा मियां बीवी को साथ में बैठकर पढ़ना है। यह वजीफा पढ़ने के साथ पाँचों वक्त नमाज की पाबंदी करनी होगी। आप दिन में किसी भी वक्त की नमाज के बाद औलाद होने के लिए सूरह फातिहा का वजीफा पढ़ सकते है। यह वजीफा आपको बिस्मिल्लाह शरीफ के साथ पढ़ना होगा। पहले 41 बार बिस्मिल्लाह शरीफ पढ़े और फिर औलाद होने के लिए सूरह फातिहा का वजीफाभी 41 मरतबा ही पढ़े।
  • औलाद होने के लिए सूरह फातिहा का वजीफा मियां बीवी को 21 दिन तक पढ़ना है। रोज़ाना वजीफा पढ़ने के बाद अल्लाह से अपने गुनाहों की माफी मांगे और साथ ही जल्द एक औलाद होने के की दुआ करें।

ध्यान रहें, 21 दिन तक औलाद होने के लिए सूरह फातिहा का वजीफा पढ़ने के दौरान आपको शारीरिक संबंध नहीं बनाने है। वजीफा पूरा होने के बाद ही मियां बीवी को हमबिस्तर होना है।

सूरह फातिहा का वजीफा शादी के लिए

सूरह फातिहा का वजीफा शादी के लिए – surah Fatiha Ka Wazifa Shadi Ke Liye, अक्सर आपने देखा होगा कि कुछ लोग अपनी शादी को लेकर बहुत परेशान रहते है। हर व्यक्ति चाहता है कि उसकी शादी उसकी पसंद के लड़के या लड़की से हो।

लेकिन मोहब्बत की शादी बहुत कम लोगों को ही नसीब होती है। यदि आप भी किसी से मोहब्बत करते है और उससे शादी करना चाहते है तो सूरह फातिहा का वजीफा शादी के लिए अपना सकते है।

इसके अलावा जिन लोगों की शादी नहीं हो पा रही है या फिर उनकी उम्र अधिक हो गई है और उनके रिश्ते आने बंद हो गए है, वे लोग भी सूरह फातिहा का वजीफा शादी के लिए का इस्तेमाल कर सकते है।

surah Fatiha Ka Wazifa Shadi Ke Liye

  • सूरह फातिहा पढ़ने से आपकी ज़िन्दगी बहुत सरल बन जाएगी। इसे रोज़ाना पढ़ने से आप देखेंगे कि आपकी ज़िन्दगी में एक के बाद एक खुशियाँ आनी शुरू हो जाएगी। सूरह फातिहा का वजीफा शादी के लिए आपको रोज़ाना यह वजीफा कम से 41 बार पढ़ना होगा। इसे पढ़ने के दौरान आपको बिल्कुल पाक रहना है।
  • जब तक आप सूरह फातिहा का वजीफा शादी के लिए पढ़े, तब तक रोज़ाना कुछ नेक काम जरूर करें, कुछ जरूरतमंदो की मदद करें और 41 दिन तक कम से कम 11 भूखों को रोज़ाना खाना खिलाएं।
  • सूरह फातिहा का वजीफा शादी के लिए पढ़ने के बाद आपको अल्लाह से जल्द शादी होने की दुआ भी करनी है। इसके अलावा यदि आपको कोई परेशानी है तो सूरह फातिहा के अन्य वजीफे जानने के लिए आप हमसे संपर्क कर सकते है।

Mauskile har insaan ki zindki mai aati hai, or to or roz roz hame nayi nayi musibato ka samna karna padta hai. isliye aaj hum aapko char musibato se bachne ke upay batayege. pahala hai Har Mushkilat Ke Liye Surah Fatiha Ka Wazifa, Dua, Amal, dusra hai Surah Fatiha Ka Mohabbat Ka Wazifa, Dua, Amal, Teesra hai Aulad Hone Ke Liye Surah Fatiha Ka Wazifa, Dua, Amal or last hai surah Fatiha Ka Wazifa Shadi Ke Liye.

If you need any type of help and Guidance talks to us without any hesitation. In Sha Allah we will solve your problem.

Enquiry Form

बीवी को घर वापस बुलाने का वजीफा


बीवी को घर वापस बुलाने का वजीफा – Biwi Ko Ghar Wapas Bulane Ka Wazifa, Dua, Amal, Upay, Tarika, Totke, Istikhara, कई बार बीवी नाराज़ होकर अपने पीहर चली जाती है, जयादातर तो बीवी का गुस्सा ठंडा होते ही वो अपने आप वापस आ जाती है परन्तु कई बार गुस्सा इतना जयादा होता है की वो बिना मनाये वापस नहीं आती, इसके लिए आज हम आपको रूठी बीवी को घर वापस लाने का वजीफा और नाराज़ बीवी को मनाने का वजीफा बता रहे है. इसके अलावा हम आपको बीवी को अपना बनाने का वजीफा भी बतायेगे।

Biwi Ko Ghar Wapas Bulane Ka Wazifa

बीवियाँ जब आपकी किसी बात से आहत होती हैं, तो वह पुरुषों की तरह आक्रामक नहीं हो सकती हैं, लेकिन मनुष्यों के रूप में वे उनमें से सबसे अच्छेतरीके को अपना कर नाराज हो सकती हैं। तात्पर्य यह हैं कि आपकी किसी गुस्ताखी, जिसे आप अपने गुस्से में महसूस नहीं करते हैं और प्रतिक्रिया करते हैं,

बीवी को घर वापस बुलाने का वजीफा – Biwi Ko Ghar Wapas Bulane Ka Wazifa, Dua, Amal, Upay, Tarika, Totke, Istikhara

जिससे नाराज़ होकर आपकी बीवी घर छोड़ कर चली जाती हैं, तो इस दोहरावदार क्रोध के कारण अपने निकाह को आप स्वयं अपने हाथों से जमीन में धकेल देते है। यदि आपकी बीवी भी आपका घर छोड़ कर चली गयी हैं, तो आप सही जगह पर समाधान तलाश रहे हैं| आज हम इस लेख में बीवी को वापस बुलाने के इस्लामी वजीफों और दुआओं के बारे में चर्चा करेंगे|

बीवी को घर वापस बुलाने का वजीफा का प्रयोग- यदि आपकी बीवी नाराज़ होकर घर छोड़ कर चली गयी हैं, तो आप नीचे दिये हुए वजीफा को अक्षरशः आजमाए:-

इस वजीफा को आप जुम्मे के दिन शुरू कर सकते हैं| किसी नदी अथवा तालाब के किनारे बैठ कर पहले नमाज़ पढे| इसके बाद इस वजीफा को 21 मर्तबा दुहराये-
“यसुद्दीन मालिक कहर रहमते रहन्नुम रहमान अलीबाग असितुल्लाह गरीबपरवर विस्मिल्लाह रहमाने रहीम|”
वजीफ़ा को पढ़ने के बाद नदी किनारे से तीन पत्थर उठा कर अल्लाह का नाम लेते हुए एक एक कर के नदी में फेंक दें|
हर पत्थर को फेंकने के साथ अल्लाह-ताला से दुआ करे कि आपकी घर बीवी लौट आए|
इस वजीफ़ा को लगातार तीन जुम्मे तक दुहराये| इस वजीफ़ा के असर से अल्लाह-ताला आपके बीवी के सामने ऐसी परिस्थिति उत्पन्न कर देंगे कि उसके पास वापस लौटने के अलावा दूसरा कोई चारा नहीं बचेगा|

रूठी बीवी को घर वापस लाने का वजीफा

रूठी बीवी को घर वापस लाने का वजीफा – Ruthi Biwi Ko Ghar Wapis Lane Ka Wazifa, Dua, Amal, Upay, Tarika, Totke, Istikhara, आपकी पत्नी कभी-कभी आपके गुस्से को अलग तरह से संभाल सकती है, लेकिन अगर यह आपकी पुरानी आदत है, तो इस प्रकार की अनवरत गुस्ताखी के कारण आपकी बीवी बहुत आहत होती हैं, और एक दिन वह आपका घर छोड़ कर चली जाती हैं|

क्रोध और अनसुलझे मुद्दों के कारण कई लोग तलाकशुदा हैं जो बस इस बहाव के साथ बह गए हैं। जब आप अपनी शादी में आगे बढ़ते हैं, तो यहां उन बातों पर विचार करना चाहिए जिनसे आपकी बीवी नाराज होती है। आइये हम जानते हैं कि रूठी बीवी को मनाने के लिए हमें कौन सा वजीफ़ा पढ़ना चाहिए:-

Ruthi Biwi Ko Ghar Wapis Lane Ka Wazifa

  • अगर आपकी बीवी उन बातों पर गुस्सा हो रही है जो आपको मामूली लगती हैं, तो यह हमेशा उसकी गलती नहीं है। एक महिला का मस्तिष्क नकारात्मक भावनाओं के प्रति अधिक संवेदनशील है, और इसलिए उनकी प्रतिक्रिया पुरुषों से अलग है।
  • और कई बार आपकी बीवी कि प्रतिकृया इतनी तेज होती हैं कि आवेग में वो घर छोड़ कर चली जाती हैं|
  • यदि आपकी बीवी आपसे रूथ कर मायके जा कर बैठ गयी हैं, तो आप शनिवार की रात ठीक 12 बजे खुले आँगन में एक सफ़ेद चादर बिछा कर बैठ जाए|
  • अब इस वजीफ़ा को 100 मर्तबा दुहराये-
  • “ओ जिन्नात यदि तुम तक मेरी रूह की आवाज पहुँच रही हैं,तो मेरी मुश्किलात में मदद कर, मुझे रह दिखा, रूठे हुए को मना कर वापस ला, आमीन|”
  • इस वजीफ़ा को पढ़ने के बाद आप चुपचाप वहाँ से उठ जाए और जा कर सो जाए| यह वजीफ़ा इतना ताकतवर हैं कि यह कायनात की उस शक्ति जिसे जिन्न कहते हैं, उसे आपकी मदद करने को मजबूर कर देगा|
  • इस वजीफ़ा को केवल 2 शनिवार तक दुहराने से ही परिणाम आपके सामने आ जाएगा| जिन्नात की शक्ति आपकी बीवी के दिल में आपके लिए इतना अधिक आकर्षण बढ़ा देगा कि आपकी बीवी खुद-ब-खुद मायके से अपने घर वापस लौट आएगी|

नाराज़ बीवी को मनाने का वजीफा

नाराज़ बीवी को मनाने का वजीफा – Naraz Biwi Ko Manane Ka Wazifa, Dua, Amal, Upay, Tarika, Totke, Istikhara, अगर आपको लगता है कि महिलाएं बहुत संवेदनशील हैं, तो आप सही हैं। हालांकि शोधकर्ताओं का मानना है कि महिलाएं अपना गुस्सा कम करती हैं, लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि वे इसे पूरी तरह से नजरअंदाज करती हैं।

कई बार वो आपसे नाराज़ हो जाती हैं, तो महीनों तक आपकी बोल-चाल बंद हो जाती हैं| नीचे नाराज़ बीवी को मनाने का वजीफ़ा दिया हुआ हैं, जिसके प्रयोग से आप अपनी नाराज़ बीवी को माना सकते हैं|

नाराज़ बीवी को राजी करने का वजीफा: – अगर किसी व्यक्ति की बीवी छोटी से छोटी बात पर गुस्सा हो जाती है, और आप उसकी हरकतों से परेशान हैं, तो आपको घबराने की जरूरत नहीं है। आप नीचे वर्णित वजीफा का उपयोग करके बीवी के क्रोध को नियंत्रित कर सकते हैं।

Naraz Biwi Ko Manane Ka Wazifa

  • पहले आटा गूंध लें और उससे एक पुतला बनाएं। अब सुरमा की मदद से अपनी बीवी का नाम उस पुतलें पर लिखें|
  • इसके बाद पीले कपड़े में थोड़ा सा गेहूं बांधकर पुतले के ऊपर से सात बार घुमाएं, अब इस पोटली को 7 बार बीवी के ऊपर से उस वक्त घुमाएं, जब वह गुस्से में हों और उस पोटली को पानी में प्रवाहित करें।
  • आटे का पुतला, जो आपने बनाया है, घर के यार्ड में या घर के पीछे मिट्टी में दबा दें। और ध्यान रखें कि ऐसा तभी करें जब बीवी सो रही हो।
  • इस इस्लामी अमल का प्रभाव बहुत जल्द आपकी बीवी पर पड़ेगा और वह पहले की तरह गुस्सा नहीं करेगी| मान लीजिये यदि उसे गुस्सा आता भी है, तो उसकी नाराजगी से जल्द समाप्त हो जाएगी|

बीवी को अपना बनाने का वजीफा

बीवी को अपना बनाने का वजीफा – Biwi Ko Apna Banane Ka Wazifa, Dua, Amal, Upay, Tarika, Totke, Istikhara, Taweez, यदि आपकी बीवी निकाह के बाद भी आपसे खींची खींची रहती हैं और आपसे खुल कर बात नहीं करती हैं, तो आप नीचे दिये हुए वजीफा को आजमा कर अपनी बीवी के दिल में अपने लिए मोहब्बत पैदा कर सकते हैं|

आप को इस वजीफा के लिए कुछ काली मिर्च की जरूरत होगी| काली मिर्च के दानों को लेकर किसी कटोरे में रख लें| अब इसे अपने सामने रखते हुए 3 बार दारुदे-शरीफ पढ़े| इसके पश्चातइसतसबीह को पढ़े–

Biwi Ko Apna Banane Ka Wazifa

“या ख़ुदा असमलल्हा वसीमे कुलाम सुकरने तसबीह तालिम|”

  • इसे पढ़ने के बाद वापस से दारुदे-शरीफ को पढ़े| अब काली मिर्च के दानो को हाथ में लेकर इस पर दम भरे|
  • अब इन काली मिर्च को सोते हुए बीवी के ऊपर से सात बार उसार कर नजर उतार लें| पूरी प्रक्रिया हो जाने के बाद इस काली मिर्च को कमरे में ही जला दें, ताकि इसका धुआँ बीवी के नाक तक पहुँच सके|
  • इस वजीफा के असर से आपकी बीवी के दिल में आपके लिए मोहब्बत जाग जाएगी| बीवी को अपना बनाने के लिए यह वजीफा बहुत ही कारगर हैं|
  • यदि आप ऐसे व्यक्ति हैं जो अपनी शादी में समस्याओं का सामना कर रहे हैं और अपनी स्थिति में असहाय महसूस करते हैं। कृपया बेझिझक अपनी समसायों को किसी जानकार से साझा करें।

लेख में बताए हुए सभी वजीफ़ा व अमल सतप्रतिशत परिणाम दायकहैं, जो तनावपूर्ण संबंधों का सामना करने वाले बहुत से लोगों को जीवन में नई आशा देने में मदद करते हैं।

Kai baar biwi kisi baat per naraz hokar apne piher chali jati hai, jayadatar mamlo mai to biwi ka gussa kuch he dino mai thanda ho jata hai, parantu kai baar baat badi ho to biwi ko manana padta hai. parantu kai baar manane se bhi kaam nahi chalta, iske liye aaj hum aapko Biwi Ko Ghar Wapas Bulane Ka Wazifa, Dua, Amal, Upay, Tarika, Totke, Istikhara or Ruthi Biwi Ko Ghar Wapis Lane Ka Wazifa, Dua, Amal, Upay, Tarika, Totke, Istikhara bata rahe hai. Ise Naraz Biwi Ko Manane Ka Wazifa, Dua, Amal, Upay, Tarika, Totke, Istikhara ya Biwi Ko Apna Banane Ka Wazifa, Dua, Amal, Upay, Tarika, Totke, Istikhara, Taweez bhi kaha jata hai.

If you need any type of help and Guidance talks to us without any hesitation. In Sha Allah we will solve your problem.

Enquiry Form